इस्लामाबाद, पीटीआइ। भारत का दशकों पुराना दोस्त रूस अब पाकिस्तान के साथ रक्षा, आतंकवाद निरोधी, ऊर्जा और व्यापार सहयोग बढ़ाएगा। रूस उसे विशिष्ट तकनीक पर आधारित खास हथियार भी देगा। रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव के साथ वार्ता के बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने यह बात कही है। बीते नौ साल में पाकिस्तान की यात्रा पर आने वाले लावरोव रूस के पहले विदेश मंत्री हैं। बुधवार को उन्होंने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान से भी मुलाकात की।

प्रतिनिधिमंडल के साथ लावरोव और कुरैशी की वार्ता में दोनों देशों के मौजूदा संबंधों की समीक्षा की गई और उन्हें भविष्य में और मजबूत करने का निर्णय लिया गया। वार्ता में दोनों देशों के बीच आर्थिक कूटनीति को बढ़ावा देने का फैसला किया गया। इसमें दोनों देशों के बीच गैस पाइपलाइन का निर्माण भी शामिल है। इसके अतिरिक्त दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोग बढ़ाने और आतंकवाद से निपटने के लिए साथ मिलकर कार्य करने पर भी सहमति बनी।

अफगानिस्तान को लेकर भी दोनों नेताओं में चर्चा हुई। कुरैशी ने ट्वीट कर जानकारी दी कि दोनों देश नागरिकों का मेलजोल बढ़ाने की नीति को आगे बढ़ाने पर सहमत हैं। यह सहयोग शिक्षा के लिए छात्रों के आवागमन के तौर पर भी होगा। यह सहयोग शंघाई सहयोग संगठन के बैनर तले होगा।

कुरैशी ने कहा है कि विदेश मंत्री लावरोव का यह दौरा दोनों देशों के संबंधों को मजबूत बनाने में मील का पत्थर साबित होगा। उल्लेखनीय है कि अमेरिका और सऊदी अरब से झटका खाने के बाद वर्षो से चीन पर आश्रित पाकिस्तान को अरसे बाद किसी शक्तिशाली देश से संबंध बढ़ाने का मौका मिला है।

दोनों नेताओं की संयुक्त प्रेस वार्ता में कुरैशी ने कहा कि पाकिस्तान रूस के साथ बहुआयामी संबंध विकसित करने का इच्छुक है। लावरोव ने कहा कि रूस पाकिस्तान के साथ संबंध विकसित करने के लिए तैयार है। वह पाकिस्तान को हथियार देने और उसके साथ युद्धाभ्यास करने के लिए भी तैयार है। यह क्षेत्र के सभी देशों के हितों को ध्यान में रखते हुए होगा। लावरोव ने दोनों देशों के बीच व्यापार में 46 प्रतिशत की बढ़ोतरी पर संतोष जताया लेकिन यह भी कहा कि इसमें और बढ़ोतरी होनी चाहिए। व्यापार का क्षेत्र बढ़ना चाहिए।

 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021