इस्लामाबाद, एएनआइ। पाकिस्तान में कोरोना के मामले बढ़ने लगे हैं। सबसे ज्यादा मामले सिंध प्रांत में दर्ज किए जा रहे हैं। ऐसे में प्रांत में लाकडाउन लागू करने पर विचार किया जा रहा है। स्थानीय मीडिया के अनुसार, लाकडाउन लागू करने का निर्णय संघीय निकायों की सिफारिशों के बाद लिया जाएगा।

जियो न्यूज ने मुख्यमंत्री सिंध मुराद अली शाह के हवाले से शुक्रवार को कहा कि लाकडाउन और शैक्षणिक संस्थानों को बंद करने का निर्णय नेशनल कमांड एंड आपरेशन सेंटर्स (एनसीओसी) की सिफारिशों के अनुरूप लिया जाएगा।

कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, लेकिन स्थिति नियंत्रण में है। शाह ने कहा, बंदरगाह शहर में अस्पतालों और गहन देखभाल इकाइयों (आईसीयू) में मरीजों की संख्या कम है। जियो न्यूज के अनुसार, प्रांत में पिछले 24 घंटों में 2,321 नए मामले सामने आए थे और इस दौरान दो मरीजों की मौत हो गई थी, जिससे संक्रमण के मामलों की कुल संख्या बढ़कर 4,94,064 हो गई और मरने वालों की संख्या 7,693 तक पहुंच गई है। शाह ने यह भी कहा कि कोविड-19 संक्रमण न केवल सिंध में बल्कि पूरे पाकिस्तान में भी बढ़ रहा है। हालांकि उन्होंने कहा कि प्रांतीय सरकार कोरोना वायरस की स्थिति पर नजर रखे हुए है।

पाकिस्तान में पिछले 24 घंटों में चार महीने के अंतराल के बाद 3,000 मामलों नए मामले दर्ज किए गए हैं। इसके सात ही देश की सकारात्मकता दर केवल एक महीने में नौ गुना वृद्धि देखी गई है। इससे पहले पाकिस्तान में 11 सितंबर 2021 को 3,152 मामले सामने आए थे। डान की रिपोर्ट के अनुसार, नेशनल कमांड एंड आपरेशन सेंटर (एनसीओसी) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटों में पूरे पाकिस्तान में कुल 3,019 मामले और पांच मौतें हुई हैं, जिनमें 651 मरीज गंभीर देखभाल पर हैं।

सकारात्मकता अनुपात, जो 13 दिसंबर, 2021 को 0.69 प्रतिशत था, पिछले 24 घंटों के दौरान बढ़कर 6.12 प्रतिशत हो गया। कराची में 20.45 फीसदी, लाहौर में 10.7 फीसदी, रावलपिंडी में 7.35 फीसदी, इस्लामाबाद में 6.3 फीसदी, गिलगित में 5.88 फीसदी और गुजरात में 5.81 फीसदी पाजिटिव पाई गई है। विशेष रूप से, कराची में 13 दिसंबर को कोविड -19 के ओमिक्रोन संस्करण का पहला मामला सामने आया था और तब से देश में मामलों की संख्या आसमान छू रही है।

Edited By: Neel Rajput