इस्लामाबाद, पीटीआई। भारत ने पाकिस्तान के साथ व्यापारिक संबंध कभी बंद नहीं किया। वह व्यापारिक संबंधों को सामान्य बनाने की दिशा में आगे बढ़ना चाहता है। पाकिस्तान में भारत के उप उच्चायुक्त सुरेश कुमार ने शुक्रवार को लाहौर चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (LCCI) में बोलते हुए यह टिप्पणी की।

''भारत ने पाकिस्तान के साथ व्यापार को नहीं रोका''

सुरेश कुमार ने कहा, ''भारत हमेशा पाकिस्तान के साथ बेहतर संबंध चाहता है, क्योंकि हम अपना भूगोल नहीं बदल सकते। हम पाकिस्तान के साथ सामान्य संबंधों की ओर बढ़ना चाहते हैं। हमने पाकिस्तान के साथ व्यापार भी नहीं रोका, क्योंकि पाकिस्तान ने ही ऐसा किया था। यह देखना बेहतर होगा कि हम अपनी समस्याओं और स्थितियों को कैसे बदल सकते हैं।"

आतंकवाद मुक्त वातावरण में ही होगी बातचीत

2019 में भारत द्वारा जम्मू और कश्मीर की विशेष स्थिति को रद्द करने के बाद पाकिस्तान ने भारत के साथ द्विपक्षीय व्यापार को निलंबित कर दिया था और इस्लामाबाद में अपने उच्चायुक्त को निष्कासित कर दिया था। भारत इस बात पर कायम रहा है कि वह पाकिस्तान के साथ सामान्य पड़ोसी संबंधों की इच्छा रखता है, जबकि इस बात पर जोर देता है कि इस तरह के जुड़ाव के लिए आतंकवाद और शत्रुता से मुक्त वातावरण बनाने की जिम्मेदारी पाकिस्तान की है।

पाकिस्तानियों को जारी वीजा की संख्या में हो रहा इजाफा

आंकड़ों से पता चलता है कि पाकिस्तान के साथ व्यापार 2020-21 में 329.26 मिलियन अमेरिकी डालर और 2019-20 में 830.58 मिलियन अमेरिकी डालर था। कुमार ने इस बात पर सहमति जताई कि कोविड-19 महामारी के दौरान भारतीय दूतावास द्वारा पाकिस्तानियों को जारी किए जाने वाले वीजा की संख्या में कमी आई है। हालांकि, उन्होंने जोर देकर कहा कि यह संख्या अब बढ़ गई है, क्योंकि हर साल 30,000 वीजा जारी किए जा रहे थे, जो कि 'एक बड़ी संख्या' है।

पर्यटन और व्यापार के इर्द-गिर्द घूमती है कूटनीति

सुरेश कुमार ने कहा कि भारत सरकार भी पाकिस्तानियों को चिकित्सा और खेल वीजा जारी कर रही है। उन्होंने कहा कि वे दिन गए, जब कूटनीति राजनीतिक रिपोर्टों को संकलित करने पर ध्यान केंद्रित करती थी। आज की कूटनीति पर्यटन, व्यापार और प्रौद्योगिकी के इर्द-गिर्द घूमती है।

'आयात हमेशा गलत नहीं होते हैं'

भारत वर्तमान में चीन के साथ 120 बिलियन अमेरिकी डालर का व्यापार कर रहा है, जिसमें व्यापार का संतुलन चीन की ओर है। कुमार ने जोर देकर कहा कि आयात हमेशा गलत नहीं होते हैं। इसके फायदे भी होते हैं।

बौद्धिक संपदा भौतिक संपत्ति से ज्यादा महत्वपूर्ण

भारतीय राजनयिक ने कहा कि बौद्धिक संपदा भौतिक संपत्ति से ज्यादा महत्वपूर्ण हो गई है। उन्होंने कहा, "दूर देशों में बैठकर और अन्य देशों में विनिर्माण करके, यूरोप बौद्धिक संपदा अधिकारों के कारण पैसा कमा रहा है।यूरोप में विश्वविद्यालय प्रौद्योगिकी पर ध्यान केंद्रित करते हैं।"

'हमारा सेवा क्षेत्र काफी बढ़ गया है'

कुमार ने कहा कि पारगमन व्यापार अत्यंत महत्वपूर्ण है, क्योंकि मध्य एशिया एक बड़ा बाजार है और भारत को इसकी पहुंच की आवश्यकता है। इसी तरह मध्य एशिया को भी भारत तक पहुंच की जरूरत है। उन्होंने कहा कि भारत सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक बनने की राह पर है। हमारा सेवा क्षेत्र काफी बढ़ गया है और अब हम ऑटोमोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण जैसे विनिर्माण पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।

व्यापार को सामान्य बनाए सरकार

एलसीसीआई के अध्यक्ष काशिफ अनवर ने कहा कि आम तौर पर यह सोचा जाता है कि भारत और पाकिस्तान के बीच आर्थिक संबंधों में सुधार एक जटिल मुद्दा है, जिसके लिए कई राजनीतिक, आर्थिक और सामाजिक कारकों को हल करने की आवश्यकता है, लेकिन हमारा विचार है कि भारत और पाकिस्तान के बीच आर्थिक संबंधों को सुधारने के लिए जो सबसे महत्वपूर्ण कदम उठाया जा सकता है, वह व्यापार संबंधों को सामान्य बनाना है। इससे दोनों देशों को समान रूप से पर्याप्त आर्थिक लाभ होगा।

Edited By: Achyut Kumar