इस्‍लामाबाद, पीटीआइ। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Pakistan Prime Minister Imran Khan) एकबार फिर सुर्खियों में हैं। कोरोना से संक्रमित होने के बावजूद उन्होंने अपनी मीडिया टीम के सामने मौजूद होकर बैठक ली। इस खबर के सामने आने के बाद उनकी जमकर किरकिरी हो रही है। विपक्ष उनकी आलोचना कर रहा है। इस वाकए के बाद वह आवाम के निशाने पर भी आ गए हैं। पिछले शनिवार को इमरान खान और उनकी पत्नी बुशरा बीबी की कोविड जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। 

मालूम हो कि इमरान खान ने संक्रमित होने से कुछ दिन पहले ही कोविड-19 रोधी वैक्‍सीन की पहली खुराक लगवाई थी। सूचना एवं प्रसारण मंत्री शिबली फराज और एक अन्य सांसद फैसल जावेद ने प्रधानमंत्री इमरान खान (Pakistan Prime Minister Imran Khan) के साथ एक बैठक में हिस्सा लिया था। इस बैठक की तस्‍वीरें उन्होंने सोशल मीडिया पर डाली थीं जिसके बाद इमरान लोगों के निशाने पर आ गए। इमरान खान को इस तस्‍वीर में अपनी टीम से बात करते हुए देखा जा सकता है। 

इस बैठक में शिबली फराज और फैसल जावेद के अलावा युसूफ बेग मिर्जा और जुल्फिकार अब्बास बुखारी भी शामिल रहे। पाकिस्‍तानी अखबार डॉन ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि इमरान ने बृहस्पतिवार को बनिगाला स्थित अपने आवास पर बैठक की थी। विपक्ष ने पीएम इमरान पर एफआइआर दर्ज किए जाने की मांग की है। विपक्ष का कहना है कि प्रधानमंत्री इमरान खान ने खुद कोरोना के नियमों का उल्लंघन किया है इसलिए उन पर प्राथमिकी दर्ज की जानी चाहिए।

यही नहीं प्रधानमंत्री के आइसोलेशन में रहने के बावजूद बैठक लेने के वाकए का कोई भी सरकारी प्रवक्ता बचाव नहीं कर सका है। सरकारी प्रवक्‍ताओं की टीम मीडिया के सवालों से कन्‍नी काटती नजर आई। सोशल मीडिया प्‍लेटफार्मों पर लोग इस वाकए को लेकर हैरानी जता रहे हैं। लोगों का कहना है कि संक्रमित होने के बावजूद इमरान (Pakistan Prime Minister Imran Khan) को खुद मौजूद होकर बैठक लेने की क्या जरूरत थी। हालांकि वह वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए भी बैठक ले सकते थे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप