कराची, एजेंसी। पाकिस्‍तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के मुखिया बिलावल भुट्टो-जरदारी ने शनिवार को कहा कि उनकी पार्टी राजनीतिक रैलियों में सेना के जनरलों का नाम लेने से बचना चाहती थी, क्योंकि इस तरह के कदम देश की राष्ट्रीयता और अखंडता को प्रभावित कर सकते हैं। बिलावल ने डॉन के हवाले से कहा कि राजनीतिक रैलियों में जनरलों के नामों का उल्‍लेख करने से वह बेहद दुखी है। उन्‍होंने कहा कि चाहे यह नाम सत्‍ता पक्ष की ओर से लिया गया हो या विपक्ष की ओर से उल्‍लेख किया गया हो। यह हमारी संस्थाओं की अखंडता को कमजोर करता है। उन्‍होंने विपक्ष का बचाव करते हुए कहा कि इसके लिए प्रधानमंत्री इमरान खान जिम्‍मेदार हैं। बिलावल ने इसके लिए इमरान को दोषी ठहराया है।

सेना का राजनीतिकरण कर रहे हैं इमरान खान

पीपीपी मुखिया ने कहा कि प्रधानमंत्री इमरान पाकिस्‍तानी सेना का बेजा इस्‍तेमाल कर रहे हैं। बिलावन ने आरोप लगाते हुए कहा कि इमरान सेना का राजनीतिकरण कर रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि ऐसे हालात पैदा किए जा रहे हैं कि सेना पर सवाल उठना लाजमी है। बिलावल ने कहा कि इमरान सरकार द्वारा चुनाव के दौरान मतदान केंद्रों पर सेना को तैनात किया जा रहा है। इतना ही नहीं इमरान अपनी हर चुनावी रैली में इस बात का उल्‍लेख करते हैं कि सेना उनके साथ हैं। इससे विपक्ष भी सेना का नाम लेने पर मजबूर हो रहा है।

हमें या तो तानाशाही या नियंत्रित लोकतंत्र प्राप्त हुआ

बिलावल ने कहा कि जब हम महसूस करते हैं कि केवल आज के जनरलों या सेवानिवृत्त जनरलों को ही दोषी नहीं ठहराया जाना चाहिए। यह हमारे इतिहास का एक हिस्सा है कि हमें या तो तानाशाही या नियंत्रित लोकतंत्र प्राप्त हुआ। डॉन के अनुसार बिलावन ने पाकिस्तान डेमोक्रेटिक मूवमेंट (पीडीएम) के दूसरे पावर शो की व्यवस्था की समीक्षा करने के बाद कराची में संवाददाताओं से बात करते हुए ये टिप्पणी की है।

नवाज शरीफ ने भी सेना पर लगाए आरोप

इससे पहले पीएमएल-एन सुप्रीमो नवाज शरीफ ने लंदन से वीडियो लिंक के जरिए पीडीएम रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री के रूप में अपने बेदखल होने और इमरान खान को सत्ता में लाने का आरोप लगाया। पूर्व प्रधानमंत्री ने सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा और आईएसआई प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद पर आरोप लगाया कि वे राज्य से ऊपर राज्य बनाने और पाकिस्तान में दो सरकारों की उपस्थिति के लिए दोषी हैं।

इमरान ने सेना का लिया पक्ष

विपक्षी रैली के दौरान शरीफ द्वारा दिए गए भाषण पर टिप्पणी करते हुए प्रधानमंत्री खान ने कहा कि पीएमएल-एन नेता एक समय में सेना और आइएसआइ प्रमुखों के खिलाफ अनुचित भाषा का उपयोग कर रहे थे। उन्‍होंने पाकिस्‍तानी सेना का पक्ष लेते हुए कहा कि उनका यह बयान ऐसे समय आया है, जब पाकिस्तानी सैनिक लगातार राष्ट्र के लिए अपना बलिदान दे रहे हैं।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस