बीजिंग, पीटीआइ। Imran Khan China visit: पाकिस्तान में सरकार को किस तरह से सेना कंट्रोल कर रही है इसका एक नजारा मंगलवार को इमरान खान के चीन दौरे पर देखने को मिला। चीन में पाकिस्तान सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा, प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ शीर्ष चीनी नेताओं के साथ यहां हुई बैठकों में शामिल हुए। माना जा रहा है कि बाजवा अब घरेलू नीतियों के बाद विदेश नीति अपना दखल देना चाहते हैं। बता दें कि इससे पहले वो पाकिस्तान के कारोबारियों के साथ बैठक में शामिल हुए थे। 

1947 के बाद से ही पाकिस्तान में सेना का बर्चस्व रहा है। इस दौरान यहां तीन बार सैन्य तख्तापलट हुए हैं। पाकिस्तान के आधे इतिहास में सेना ने ही शासन किया है। देश में लोकतांत्रिक रूप से चुनी गई सरकारें सेना के जनरलों की आड़ में काम करती हैं। जनरल बाजवा, जिन्हें खान द्वारा तीन साल का विस्तार दिया गया था, अब निर्णय लेने की प्रक्रिया में रुचि ले रहे हैं।

केचियांग के साथ बैठक में शामिल हुए बाजवा

बाजवा, चीन के प्रधानमंत्री ली केचियांग के साथ इमरान की बैठक में मौजूद थे। बाजवा ने केंद्रीय सैन्य आयोग के उपाध्यक्ष जू किइलियांग के साथ अलग से बैठक की और दोनों देशों के बीच सैन्य संबंधों पर चर्चा की। 

चिनफिंग के साथ मुलाकात में भी होंगे बाजवा

जू ने कहा कि दोनों देशों के बीच दोस्ती ने बदलते अंतरराष्ट्रीय परिदृश्य को बरकरार रखा है। बीजिंग में राष्ट्रपति शी चिनफिंग और नेशनल पीपुल्स कांग्रेस (एनपीसी) के अध्यक्ष ली झांशु के साथ मुलाकात के दौरान बाजवा के भी साथ होने की उम्मीद है।

इमरान के साथ अमेरिका भी गए थे बाजवा 

हाल ही में संपन्न हुए संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA)के सत्र में भाग लेने अमेरिका गए इमरान खान के साथ बाजवा और आईएसआई प्रमुख लेफ्टिनेंट-जनरल फैज हमीद भी गए थे। बाजवा ने हाल ही में पाकिस्तानी व्यापारियों के साथ एक निजी बैठक की, जिसमें चर्चा की गई कि मौजूदा संकट से पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था को कैसे निकाला जाए। सत्ता में आने के बाद से, खान ने चीनी नेतृत्व के साथ तालमेल बिठाने में संघर्ष कर रहे हैं। इसका कारण  चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (CPEC) के तहत कुछ प्रमुख परियोजनाओं में देरी को बताया जा रहा है।

चिनफिंग ने बाजवा को चीन का पुराना दोस्त बताया

पिछले साल सितंबर में शी ने जनरल बाजवा से मुलाकात की थी, जिनकी सेना ने CPEC परियोजनाओं में काम करने वाले हजारों चीनी कर्मियों की सुरक्षा के लिए एक अलग बल जुटाया। इस साल अगस्त में चीन ने तीन साल के लिए बाजवा का कार्यकाल बढ़ाने के खान के कदम का स्वागत किया, उसे अपनी सेना का 'असाधारण नेता' और चीनी सरकार का एक 'पुराना दोस्त' बताया था।

यह भी पढ़ें : संकट में इमरान : पाक में बुलंद होने लगी मुखालफत, सेना भी परेशान, बचेगी या जाएगी कुर्सी

यह भी पढ़ें : FATF के एक्‍शन से बचने के लिए चीन की शरण में इमरान, ब्‍लैकलिस्‍ट से बचाने की लगाएंगे गुहार

यह भी पढ़ें : Imran Khan to Visit China: चिनफिंग के सामने कश्मीर पर फिर रोएंगे इमरान, तीन दिन का दौरा

Posted By: Tanisk

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप