इस्लामाबाद, प्रेट्र। पाकिस्तान में अदालत से दोषी ठहराए गए व्यक्तियों को मीडिया कवरेज नहीं दी जाएगी। प्रधानमंत्री इमरान की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक के बाद पाकिस्तान के इलेक्ट्रॉनिक मीडिया नियामक प्राधिकरण (PEMRA) को इस संबंध में दिशा-निर्देश दिए गए हैं।

सरकार का कहना है कि मीडिया के पास अपराधियों और आरोपितों का प्रोपेगंडा फैलाने की अनुमति नहीं होनी चाहिए। PEMRA को सुनिश्चित करना चाहिए कि ऐसे कार्यक्रम इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर प्रसारित ना हों। माना जा रहा है कि सरकार ने जेल में बंद पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी को मिल रही मीडिया कवरेज पर लगाम लगाने के लिए यह कदम उठाया है।

शिक्षा मंत्री शफकत महमूद ने बुधवार को यहां कहा कि कैबिनेट ने सर्वसम्मति से यह फैसला लिया है कि दोषी ठहराए गए किसी व्यक्ति को मीडिया कवरेज या साक्षात्कार की इजाजत नहीं होनी चाहिए। इमरान खान के हवाले से महमूद ने कहा, 'जिन लोगों ने सरकारी धन का गलत इस्तेमाल करते हुए देश की अर्थव्यवस्था की यह दुर्दशा की है उनका महिमामंडन नहीं होना चाहिए।'

तीन चैनलों का प्रसारण रोका, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हुई आलोचना
PEMRA ने कथित तौर पर शरीफ की बेटी और पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज की नेता मरयम की प्रेस कांफ्रेंस प्रसारित करने के लिए तीन चैनलों का प्रसारण रोक दिया है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मीडिया की निगरानी करने वाली एजेंसी रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर ने इसके लिए पाकिस्तान सरकार की आलोचना की है। महमूद ने हालांकि इसमें पाकिस्तान सरकार की किसी भूमिका से इन्कार किया है। उनका कहना है कि यह PEMRA का स्वतंत्र फैसला है।

Posted By: Dhyanendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप