नई दिल्‍ली, आइएएनएस। लद्दाख पर और दबाव बढ़ाने के लिए चीन ने पाकिस्‍तान के साथ मिलकर एक सड़क बनाने का फैसला किया है जो पाकिस्तान में अस्तोर के साथ 800 किलोमीटर के काराकोरम राजमार्ग को गिलगित बाल्टिस्तान से जोड़ेगा। उच्च पदस्थ सूत्रों ने एक बेवसाइट को बताया कि चीन यरकंद को एक पूर्व बौद्ध फाउंटेन और बाद में सांस्कृतिक दिल की धड़कन जातीय उइगर संस्कृति से जोड़ना चाहता है, जिसका संबंध काराकोरम राजमार्ग के माध्यम से एस्टोर से है। एस्टोर जिला लद्दाख से ज्यादा दूर नहीं है। यह पाकिस्तान के एक डिवीजन मुख्यालय स्कर्दू के पश्चिम में है, जहां चीन और भारत के बीच सैन्य गतिरोध जारी है। 

अस्तोर ईदगाह के मुख्यालय के रूप में जाना जाता है। यह गिलगित बाल्टिस्तान के 14 जिलों में से एक है। खराब सड़क वर्तमान में ईदगाह को काराकोरम राजमार्ग से जोड़ती है, जो 43 किलोमीटर दूर है। विश्लेषकों का कहना है कि नई सड़क के निर्माण से चीन और पाकिस्तान के बीच कश्मीर में भारत के खिलाफ दो मोर्चे की लड़ाई शुरू करने की क्षमता बढ़ जाएगी, जब तक कि नई दिल्ली द्वारा प्रभावी रूप से बाधित नहीं किया जाता है।

29 अगस्त को पैंगोंग त्सो झील के दक्षिण में कैलाश रेंज ले जाकर चीनी सामरिक तैनाती के साथ साथ प्रारंभिक रणनीतिक लाभ का मुकाबला करते हुए स्पष्ट संकेत दिया गया है कि भारत हिमालय में नहीं, बल्कि इंडो के जल क्षेत्र में अपने जंगलों को स्‍थापित करने की तैयारी कर रहा है। जापान और संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ साझेदारी में चीन ने हिट करने के लिए महत्वपूर्ण मील के पत्थर पार कर लिए हैं, जहां यह सबसे महत्वपूर्ण है चीनी वाणिज्यिक जहाजों द्वारा उपयोग किए जाने वाले प्रमुख शिपिंग लेन जो अंडमान और निकोबार द्वीप समूह (एएनआई) से गुजरते हैं। 

Edited By: Arun kumar Singh