इस्लामाबाद, आइएएनएस। कश्मीर को लेकर दुनिया भर में दुष्प्रचार कर रहे पाकिस्तान की हालत वास्तव में बहुत दयनीय हो गई है। कश्मीर मुद्दे पर दुनिया के तमाम देशों से पाकिस्तान को दुत्कार तो मिली ही है। माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर ने तो कश्मीर पर पोस्ट को लेकर पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी को ही नोटिस थमा दिया है। सोशल मीडिया कंपनी द्वारा किसी देश के राष्ट्रपति को नोटिस भेजने का शायद यह पहला मामला है। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के मंत्री ने इसके लिए भी भारत सरकार को दोषी ठहराने की कोशिश की है।

आरिफ अल्वी ने शनिवार को विदेशी मीडिया के एक वीडियो को शेयर किया था। इसमें भारत द्वारा अनुच्छेद 370 को खत्म किए जाने के बाद कश्मीर के कथित हालात को दिखाया गया था। इस पर ट्विटर ने अल्वी को नोटिस भेज दिया, जिसमें सोशल मीडिया कंपनी ने कहा कि उनके अकाउंट पर कश्मीर के हालात को दर्शाने के संबंध में शिकायत मिली है।

राष्ट्रपति अल्वी को ट्विटर द्वारा भेजे नोटिस के स्क्रीनशॉट को शेयर करते हुए पाकिस्तान की मानवाधिकार मंत्री शिरीन मजारी ने कहा, 'ट्विटर ने मोदी सरकार का मुखपत्र बनने के लिए सारी हदें पार कर दी है!उसने हमारे राष्ट्रपति को नोटिस भेजा है!यह बहुत ही बुरा और हास्यास्पद है।'  हालांकि, ट्विटर ने यह भी कहा है कि वह यह नहीं तय कर सका कि राष्ट्रपति के पोस्ट से किस कानून का उल्लंघन हुआ, इसलिए इस पर कोई कार्रवाई भी नहीं की गई।

वहीं, न्यूज इंटरनेशनल के मुताबिक पाकिस्तान के संचार मंत्री मुराद सईद ने रविवार को कहा कि माइक्रोब्लॉगिंग साइट ने उन्हें भी नोटिस भेजकर कहा था कि उनके एक ट्वीट से भारतीय कानून का उल्लंघन हुआ। हाल के दिनों में सैकड़ों पाकिस्तानी यूजर यह शिकायत कर चुके हैं कि कश्मीरियों के समर्थन या कश्मीर में मानवाधिकारों के उल्लंघन संबंधी पोस्ट करने पर उनके अकाउंट को निलंबित कर दिया गया। खबरों के मुताबिक कश्मीर के हालात को लेकर पोस्ट करने पर ट्विटर ने 200 पाकिस्तानी अकाउंट को निलंबित किया है।

Posted By: Nitin Arora

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप