इस्लामाबाद, पीटीआइ। पाकिस्तान (Pakistan) को आतंकवाद पर अमेरिकी विदेश विभाग की रिपोर्ट (US Report) से मिर्ची लगी है। बौखलाए पाकिस्तान ने मंगलवार को इस रिपोर्ट पर निराशा जताई है, जिसमें आतंकवादी संगठन लश्कर और जैश पर कार्रवाई करने में नाकाम रहने पर पाकिस्तान की आलोचना की गई है। पाकिस्तान ने आरोप लगाते हुए कहा कि अमेरिकी रिपोर्ट पूरी तरह से जमीनी स्थिति की अनदेखी कर रही है।

अमेरिकी विदेश विभाग ने शुक्रवार को 'कंट्री रिपोर्ट ऑन टेररिज्म 2018' की रिपोर्ट जारी की। रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तानी सरकार ने तालिबान और हक्कानी नेटवर्क को पाकिस्तान में सुरक्षित पनाह दी है। पाकिस्तान लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मुहम्मद जैसे आतंकवादी संगठनों पर शिकंजा कसने में नाकाम रहा है। जो पाकिस्तान से बाद दूसरे देशों में आतंकी हमलों में शामिल रहे हैं और पाकिस्तान की धरती से ही ऑपरेट कर रहे हैं।

आतंकवाद के खात्मे के लिए प्रतिबद्ध

अमेरिकी रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने कहा कि हम आतंकवाद को खत्म करने के लिए नेशनल एक्शन प्लान के तहत ठोस कार्रवाई करने के लिए प्रतिबद्ध है। आतंकवाद के खिलाफ अमेरिकी रिपोर्ट में पाकिस्तान पर किए गए दावे से निराश हैं।

दुनिया को बनाया सुरक्षित स्थान

पाकिस्तान की तरफ से कहा गया है कि रिपोर्ट पूरी तरह से जमीनी हकिकत से अलग है और आतंकवाद के खिलाफ पाकिस्तान द्वारा दिए गए योगदान की अनदेखी करता है। बयान में पाकिस्तान की तरफ से दावा किया गया है कि उसके प्रयासों से न केवल इस क्षेत्र से अल-कायदा का खात्मा हुआ है, बल्कि इसने दुनिया को एक सुरक्षित स्थान भी बनाया है।

संस्थाओं पर कसी जा रही नकेल

पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने कहा कि पाकिस्तान ने सभी नामित संस्थाओं और व्यक्तियों के खिलाफ यूएनएससी 1267 प्रतिबंधों के तहत व्यापक कानूनी और प्रशासनिक कदम उठाए गए हैं। इसके अलावा एफएटीएफ के एक्शन प्लान को लागू करने के लिए भी पाकिस्तान काम कर रहा है, जिसके लिए समय सीमा फरवरी तक बढ़ाई गई है।

Posted By: Manish Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप