कराची, एएनआइ। कराची के खरादर इलाके में बंबई बाजार में सोमवार शाम एक विस्फोट हुआ, जिसमें 1 महिला की मौत हो गई। वहीं, 10 लोग घायल हो गए। न्यूज चैनल समा टीवी की रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस और बचाव अधिकारी घायलों की मदद के लिए तुरंत मौके पर पहुंचे और विस्फोट के कारणों का पता लगाया। रिपोर्ट के मुताबिक, विस्फोट स्थल के आसपास का क्षेत्र घनी आबादी वाला है। कराची के प्रशासक मुर्तजा वहाब ने कहा कि कम से कम छह लोगों को घायल हालत में नजदीकी अस्पताल ले जाया गया है। हालांकि उन्होंने कहा कि यह संख्या बढ़ सकती है।

विस्फोट के सही कारणों का पता नहीं चल पाया है

अस्पताल के अधिकारियों ने बाद में पुष्टि की कि उन्हें एक महिला का शव मिला है जबकि 10 अन्य घायल अवस्था में लाए गए हैं। सामा टीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, विस्फोट के सही कारणों का अभी पता नहीं चल पाया है, लेकिन स्थानीय लोगों का कहना है कि विस्फोट किसी विस्फोटक उपकरण के कारण हुआ होगा।

सिंध के सूचना मंत्री शरजील मेमन ने कहा कि उन्होंने पुलिस टुकड़ियों को मौके पर भेज दिया है। उन्होंने कहा, "पुलिस की टुकड़ी मौके पर पहुंच गई है। जैसे ही हमें और जानकारी मिलेगी, हम इसके बारे में जानकारी साझा करेंगे।" उन्होंने कहा कि वह विस्फोट की प्रकृति के बारे में अटकलें नहीं लगाना चाहेंगे।

इससे पहले 12 मई को सदर इलाके में हुए बम विस्फोट में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी और 13 अन्य घायल हो गए थे। पुलिस ने कहा था कि पाकिस्तान तटरक्षक बल का एक वाहन संभावित लक्ष्य था। हालांकि, वाहन में सवार कर्मियों को कोई चोट नहीं आई।

ज्ञात हो कि पिछले महीने कराची विश्वविद्यालय के परिसर में एक कार में भीषण आत्‍मघाती बम विस्फोट हुआ था, जिसमें तीन चीनी नागरिकों समेत कम से कम चार लोग मारे गए थे। इस हमले में जान गंवाने वाले चीनी नागरिकों में दो महिलाएं भी थीं। इस घटना ने दुनिया भर में लोगों का ध्यान खींचा और हर तरफ से इसकी निंदा हुई।

पाकिस्तान संस्थान द्वारा जारी आंकड़ों में अप्रैल महीने में FATA में 16 आतंकवादी हमले दर्ज किए गए, जिसमें 21 सुरक्षा कर्मियों, सात आतंकि‍यों और तीन नागरिकों सहित 31 लोग मारे गए, जबकि छह सुरक्षा कर्मियों और चार नागरिकों सहित 10 लोग घायल हो गए।

उसी महीने खैबर पख्तूनख्वा (केपी) प्रांत में, आतंकवादियों ने 10 हमले किए, जिसमें 12 सुरक्षा कर्मियों और पांच नागरिकों सहित 17 लोग मारे गए, जबकि छह लोग घायल हो गए, जिनमें से तीन आम नागरिक और तीन सुरक्षाकर्मी थे।

Edited By: Piyush Kumar