कराची, एएनआइ। पाकिस्तान के कराची में बुधवार को एक रैली में ग्रेनेड हमले में करीब 40 लोग घायल हो गए हैं। बुधवार को यहां एक कट्टरपंथी इस्लामिक संगठन द्वारा गुलशन-ए-इकबाल क्षेत्र में रैली का आयोजन किया गया था। कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के खिलाफ यह रैली निकाली गई थी, जिस पर बाईक पर सवार दो अज्ञात लोगों ने ग्रेनेड से हमला कर दिया।

डॉन न्यूज ने संगठन के प्रवक्ता के हवाले से बताया कि ग्रेनेड रैली के एक ट्रक पर फेंका गया था, जिसमें 39 लोग घायल हो गए हैं। हालांकि हमले में मौत का कोई मामला सामने नहीं आया है। सिंध के स्वास्थ्य मंत्री के मीडिया कोऑर्डिनेटर मीरान यूसुफ (Meeran Yousuf) ने बताया कि 39 घायलों में से एक व्यक्ति की हालत गंभीर बताई जा रही है, हालांकि हमले में मौत की कोई सूचना नहीं है।

पांच घायलों को पहले अल मुस्तफा अस्पताल, सात को जिन्ना पोस्टग्रेजुएट मेडिकल सेंटर (जेपीएमसी), 11 को आगा खान यूनिवर्सिटी अस्पताल और 10 को लियाकत नेशनल अस्पताल में भर्ती कराया जा चुका है। प्रतिबंधित संगठन सिंधुदेश रिवोल्यूशनरी आर्मी (SRA) ने सोशल मीडिया के जरिए हमले की जिम्मेदारी ली है।

पाकिस्तान में 5 अगस्त को मनाया गया 'शोषण दिवस'

पाकिस्तान के कराची में बुधवार को प्रदर्शन किए गए। दरअसल, भारत ने पिछले साल, 2019 में 5 अगस्त को जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 (Article 370) को खत्म कर दिया था जिसे पाकिस्तान कल यौम-ए-इस्तेहसाल (Yaum-i-Istehsal) यानि शोषण के दिन के रूप में मना रहा था। बता दें कि 5 अगस्त, 2019 को भारत सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35 ए को समाप्त कर दिया गया था और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित कर दिया गया था।

डॉन के अनुसार, भारत सरकार द्वारा कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटाए जाने के विरोध में आयोजित रैली में पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी ने नई दिल्ली की निंदा की और कहा, 'भारत ने इजरायल से डेमोग्राफी में बदलाव करना सीखा है।' रैली में प्रतिभागियों ने एक मिनट के लिए मौन भी रखा था।

Posted By: Neel Rajput

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस