नई दिल्ली [स्पेशल डेस्क]। अमेरिका के  न्यू ऑरलियन्स में प्रशासन की ओर से दो क्रेनों को गिराने के लिए बनाया गया पूरा प्लान फेल हो गया मगर किन्हीं वजहों से ये दोनों क्रेन ढह गई और इसमें दो लोगों की मौत भी हो गई। क्रेनों के ढह जाने से आसपास के इलाके में काफी नुकसान भी हुआ है। क्रेन के ढहने से पूरे इलाके में बड़े पैमाने पर धूल का गुबार भी उठा, जिससे काफी देर तक पूरे इलाके में धूल ही धूल दिखाई दी।

हार्ड रॉक होटल में लगाई गई थी दो क्रेन 

प्रशासन की ओर से न्यू ऑरलियन्स में हार्ड रॉक होटल में दो क्रेन लगी थी। इन दोनों क्रेनों को एक रणनीति के तहत विस्फोट लगाकर ढहाया जाना था। योजना ये थी कि दोनों क्रेन को विस्फोट से उड़ाया जाएगा तो ये थोड़ी दूर गिर जाएंगी जिससे जान-माल का कोई नुकसान नहीं होगा। मगर ये विस्फोट उस तरह से नहीं हुआ जैसा सोचा गया था। विस्फोट होने के बाद क्रेन होटल के ऊपर ही गिर गई, जिससे वहां भी नुकसान हुआ और दूसरा नुकसान आबादी वाले इलाके में गिरने की वजह से हुआ।

गिरने के बाद लटक गई क्रेन 

वीडियो फुटेज में साफ दिख रहा है कि जब क्रेन में विस्फोट किया जाता है तो ये दोनों क्रेनें एक साथ अलग-अलग गिरती है। गिरने से पहले एक क्रेन दो टुकड़े में बंट जाती है और गिर जाती है। विस्फोट से उत्पन्न हुए धुएं और मलबे के बीच एक क्रेन को जमीन पर गिरते हुए देखा जा सकता है।

मलबे में शवों की कि जा रही तलाश 

हार्ड रॉक होटल शहर के ऐतिहासिक फ्रेंच क्वार्टर के किनारे पर निर्माणाधीन है। ये 12 अक्टूबर को ढह गया था। इसमें तीन लोग मारे गए थे मगर यहां मलबे से केवल एक शव बरामद हुआ है। इस दुघर्टना में कुल 30 लोग घायल हुए थे। मेयर लेटोया कैंटरेल ने कहा कि हम जानते हैं कि पिछले आठ दिनों में हम जितना सुरक्षित हैं, उससे कहीं अधिक अब सुरक्षित हैं। उधर होटल का एक हिस्सा ढहने की वजह से मलबे में लापता 2 श्रमिकों को खोजने के लिए काम किया जा रहा है।  

इमारत खतरनाक, सीवर लाइन डैमेज 

क्रेनें गिरने की वजह से आसपास के इलाके में एक सीवर लाइन क्षतिग्रस्त हो गई। फायर सुपरिटेंडेंट टिमोथी मैककोनेल ने कहा कि क्रेन टूटने की वजह से तीन खिड़कियां टूट गई। ये इमारत अभी भी खतरनाक बनी हुई है। अगला कदम मलबे में दबे पीड़ितों को निकालना है। मेयर लेटोया कैंटरेल ने कहा कि सर्ट टीम ने मलबे में मानीटर लगा रखा है, इससे वहां फंसे लोगों की तलाश की जा रही है। उसके बाद इनको वहां से निकाला जाएगा। उन्होंने कहा कि होटल के मलबे में फंसे शव को निकालने के बाद इस होटल को पूर्ण रूप से विध्वंस किया जाएगा।

धूल के विशाल बादल 

निर्माण कंपनी की ओर से बताया गया कि होटल साइट पर 100 से अधिक श्रमिक काम कर रहे थे। वीडियो फुटेज में दिखाया गया है कि ऊपरी मंजिल ढहने और सड़क पर मलबा भर जाने के बाद मजदूरों को धूल के विशाल बादल से निकलते देखा गया। अधिकारियों ने बताया कि दो दिन पहले क्रेन को नीचे लाने की उम्मीद की थी, लेकिन ट्रॉपिकल स्टॉर्म नेस्टर की ओर से तेज हवाओं की आशंका के चलते इस योजना में देरी हुई। इसके बाद शनिवार को इसे फिर से शेडयूल किया गया था लेकिन विशेषज्ञों ने पाया कि क्रेन पहले से सोची गई तुलना में अधिक क्षतिग्रस्त हो चुकी थीं इस वजह से विस्फोट होते ही ये सोची गई जगह से अलग जाकर गिर गई।  

Posted By: Vinay Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप