नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के आवास पर हाल ही में फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (एफबीआई) ने छापा मारा था। ये छापेमारी बीते सोमवार को फ्लोरिडा के पाम बीच स्थित घर मार-अ-लागो पर की गई थी। ट्रंप ने एफबीआई की कार्रवाई को राजनीति से प्रेरित बताया था। साथ ही उन्होंने न्यूयार्क स्टेट अटर्नी जनरल के समक्ष किसी भी सवाल का जवाब देने से इन्कार कर दिया।

क्यों हुई डोनाल्ड ट्रंप के आवास पर छापेमारी?

पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप के घर हुई छापेमारी की वजह अब सामने आई है। एक समाचार एजेंसी के मुताबिक, ट्रंप के राष्ट्रपति रहते हुए दस्तावेजों को लेकर ये छापेमारी की गई थी। नेशनल आर्काइव्स रिकॉर्ड के रख-रखाव से जुड़ी जांच को लेकर एफबीआई ने रेड मारी थी। बताया जा रहा है कि अमेरिका के जस्टिस डिपार्टमेंट ने सरकारी दस्तावेजों के हैंडलिंग को लेकर ट्रंप के खिलाफ जांच के लिए कहा था।

फरवरी में ही ट्रंप के फ्लोरिडा स्थित घर से 15 बॉक्स बरामद किए गए थे। इन बॉक्स को बरामद करने के बाद नेशनल आर्काइव्स एंड रिकॉर्ड्स एडमिनिस्ट्रेशन ने अतिरिक्त जानकारी देने के लिए कहा।

ट्रंप पर दस्तावेजों को गायब करने का आरोप

गौरतलब है कि अमेरिकी राष्ट्रपति को सभी तरह के पत्र, दस्तावेजों की जानकारी नेशनल आर्काइव्स को देनी होती है। अधिकारियों का कहना है कि ट्रंप ने कई दस्तावेजों को गायब कर दिया है। कुछ दस्तावेजों को हासिल कर लिया गया है।

छापेमारी के पीछे राजनीतिक साजिश- डोनाल्ड ट्रंप

उधर, ट्रंप ने अपने आवास में हुई छापेमारी को राजनीति से प्रेरित बताया है। ट्रंप ने एक बयान में कहा कि अमेरिका के किसी राष्ट्रपति के साथ ऐसा पहले कभी नहीं हुआ है। ट्रंप ने कहा कि उन्होंने सरकारी एजेंसियों के साथ सहयोग किया था, उसके बावजूद छापेमारी की गई। ये उचित नहीं है। ट्रंप ने कहा है कि छापे की यह कार्रवाई न्याय प्रणाली का गलत इस्तेमाल है।

Edited By: Manish Negi