सियोल (दक्षिण कोरिया), एजेंसी। उत्तर कोरिया द्वारा जापान के ऊपर एक बैलिस्टिक मिसाइल के परीक्षण के जवाब में, संयुक्त राज्य अमेरिका और दक्षिण कोरिया ने बुधवार सुबह कोरियाई प्रायद्वीप के पूर्वी तट से चार मिसाइलें लान्च कीं। सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक, मंगलवार सुबह उत्तर कोरिया द्वारा जापान के ऊपर से बैलिस्टिक मिसाइल दागे जाने के बाद 24 घंटे के भीतर यह परीक्षण सहयोगियों का दूसरा अभ्यास था।

यह भी पढ़ें- US Action on North Korea: उत्तर कोरिया के बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षण के खिलाफ अमेरिका का एक्शन, उठाया ये कदम

अमेरिका और दक्षिण कोरिया ने दिया था अभ्यास का जवाब

इससे पहले मंगलवार को अमेरिका और दक्षिण कोरिया ने बमबारी अभ्यास का जवाब दिया, जिसमें दक्षिण कोरियाई संयुक्त प्रमुखों के अनुसार, कोरियाई प्रायद्वीप के पश्चिम में फायरिंग रेंज में एक दक्षिण कोरियाई F-15K फाइटर जेट ने हवा से सतह पर फायरिंग की।

एक दक्षिण कोरियाई मिसाइल हुआ हादसे का शिकार

ज्वाइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ ने कहा कि दोनों सेनाओं ने दो ATACMS कम दूरी की बैलिस्टिक मिसाइलों को एक वर्चुअल टारगेट पर सटीक निशाना लगाने के लिए पानी में फायर किया गया।

उन्होंने आगे अपने बयान में कहा, ‘अभ्यास के जरिए निरंतर निगरानी मुद्रा बनाए रखते हुए उकसावे की किसी भी कोशिश को बेअसर करने की क्षमता और तत्परता दिखाई गई।’ सेना ने यह भी पुष्टि की कि एक दक्षिण कोरियाई मिसाइल लान्च होने और हादसे का शिकार होने के तुरंत बाद ही यह विफल भी हो गई। हालांकि इसमें किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। मंगलवार को दक्षिण कोरिया और अमेरिका के लड़ाकू विमानों ने येलो सी में एक टारगेट का अभ्यास किया था।

ये था अभ्यास का उद्देश्य

अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के प्रवक्ता जान किर्बी ने सीएनएन को बताया कि अभ्यास का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि हमारे पास उत्तर कोरिया द्वारा उकसावे का जवाब देने के लिए सैन्य क्षमता है। किर्बी ने बताया कि, यह पहली बार नहीं है जब हमने यह सुनिश्चित करने के लिए उत्तर द्वारा उकसावे के जवाब में ऐसा किया है।

व्हाइट हाउस ने की उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षण की निंदा

इस बीच उत्तर कोरिया द्वारा परमाणु क्षमता वाली बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किए जाने के बाद उसके अगले कदम पर चर्चा के मकसद से अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने मंगलवार को जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा से बातचीत की।

व्हाइट हाउस की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि नेताओं ने उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षण की कड़े शब्दों में निंदा की है। नेताओं ने उत्तर कोरिया के इस परीक्षण को जापानी लोगों के लिए खतरा, क्षेत्र को अस्थिर करने वाला कदम और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों का स्पष्ट उल्लंघन करार दिया है। व्हाइट हाउस ने कहा कि दोनों नेता तत्काल और दीर्घकालिक प्रतिक्रिया के साथ-साथ दक्षिण कोरिया और अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ समन्वय करने पर सहमत हुए।

उत्तर कोरिया ने दागी थी बैलिस्टिक मिसाइल

उत्तर कोरिया ने इससे पहले मंगलवार को मध्यम दूरी की एक बैलिस्टिक मिसाइल दागी, जो जापान के ऊपर से गुजरते हुए प्रशांत महासागर में जा गिरी। ऐसा माना जा रहा है कि उत्तर कोरिया ने क्षेत्र में अमेरिकी सहयोगियों को निशाना बनाने वाले हथियारों का परीक्षण तेज कर दिया है।

यह भी पढ़ें- Ballistic Missile Test: उत्तर कोरिया ने फिर दागी बैलिस्टिक मिसाइल, अमेरिका की चेतावनी को किया नजरअंदाज

आस पास की इमारतों को कराया गया खाली

जापान के प्रधानमंत्री कार्यालय ने बताया कि उत्तर कोरिया की ओर से कम से कम एक मिसाइल दागी गई, जिसके जापान के ऊपर से गुजरते हुए प्रशांत महासागर में गिरने की आशंका है। जापान के अधिकारियों ने आस-पास की इमारतों को खाली करने के वास्ते पूर्वोत्तर क्षेत्र के निवासियों के लिए जे -अलर्ट जारी किया है। 2017 के बाद पहली बार ऐसा अलर्ट जारी किया गया है।

Edited By: Versha Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट