सिडनी, रायटर। आस्ट्रेलिया मे कोविड-19 के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। कोरोना वायरस का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। दैनिक मामलों की बढ़ोतरी से लगातार अस्पतालों और जांच केंद्रों पर दबाव बढ़ता जा रहा है। देश के सबसे अधिक आबादी वाले राज्य न्यू साउथ वेल्स में कोविड-19 के मामलों में भारी उछाल आया है। शहर में संक्रमण के 23,131 नए मामले सामने आए हैं। अस्पतालों में भर्ती लोगों की संख्या बढ़कर 1,344 हो गई, जो महामारी का एक नया शिखर बन गया है। आपको बता दें इससे पहले पिछले सितंबर में डेल्टा वैरिएंट की लहर के दौरान सबसे अधिक 1,266 मामले दर्ज किए गए थे।

महामारी का कहर

आस्ट्रेलिया में हालात दिन-ब-दिन खराब होते जा रहे हैं। बीते एक सप्ताह में संक्रमण की संख्या दोगुनी से भी अधिक हो गई है, जिसका सीधा असर स्वास्थ्य व्यवस्था पर पड़ा है। देश में मंगलवार तक का रिकार्ड पेश किया गया है, जिसमें अबतक 47,799 संक्रमण के मामले दर्ज किए गए हैं। जो एक दिन पहले 37,212 दर्ज किया गया था। वहीं संक्रमण से चार मौतें भी हुई हैं।

टीकाकरण से मृत्यु दर में कमी

ओमिक्रोन स्ट्रेन से प्रभावित संक्रमणों में रिकार्ड वृद्धि के बावजूद, मृत्यु दर में कमी आई है। 16 साल से ऊपर के लोगों में लगभग 92 फीसद की दोहरी खुराक टीकाकरण स्तर ने हालात को बेकाबू होने से रोकने में सफल साबित हो रहा है, जिससे देश को पिछले वायरस के प्रकोपों ​​​​की तुलना में मृत्यु दर को कम रखने में मदद मिली है।

हालांकि अभी तक अधिकारियों ने यह स्पष्ट नहीं किया है कि आखिर कोरोना वायरस के किस वैरिएंट से मरीजों की मृत्यु हुई है। वहीं न्यू साउथ वेल्स के अधिकारियों ने कहा कि राज्य की गहन देखभाल यूनिट में 16 दिसंबर से 74 फीसदी रोगी डेल्टा वैरिएंट से संक्रमित थे।

आस्ट्रेलियन मेडिकल एसोसिएशन के उपाध्यक्ष क्रिस मोय ने कहा, 'इस समय समस्या यह है कि (रैपिड एंटीजन टेस्ट) की कमी पूरी तरह से व्यक्तिगत जिम्मेदारी में बाधा बन रही है और यह एक हताशा है जो COVID के वर्तमान प्रबंधन में एक भयावह छेद है।' 

Edited By: Ashisha Rajput