ज्यूरिख, रायटर्स। साल्मोनेला बैक्टीरिया के चलते दुनिया की सबसे बड़ी चाकलेट फैक्ट्री ने नए चाकलेट उत्पादन पर रोक लगा दी है। दरअसल, बैरी कैलेबाट नाम की चाकलेट उत्पादक फैक्ट्री के उत्पादन लाट में साल्मोनेला बैक्टीरिया के पाए जाने के बाद कंपनी हरकत में आ गई है।

कंपनी अधिकारियों का कहना है कि, उन्होंने नए उत्पाद पर रोक लगा दी। वहीं, जो उत्पाद बाजार के जरिए लोगों तक पहुंच गए हैं, उन्हें भी नष्ट किए जाने की अपील की जा रही है। कंपनी अधिकारियों ने कहा कि जांच पूरी होने तक चाकलेट के उत्पादन पर रोक बरकरार रहेगी।

मेडिकल के विशेषज्ञों के मुताबिक साल्मोनेला बैक्टीरिया बेहद खतरनाक कीटाणु है। यह सबसे ज्याद बच्चों को निशाना बनाता है। साल्मोनेला के चलते बच्चों में दस्त की समस्या देखने को मिलती है। यह कीटाणु पाचन तंत्र पर सीधा हमला करता है। जिसके चलते बच्चों में पाचन संबंधित समस्या शुरू हो जाती है।

बताया जा रहा है कि, लेसिथिन नामक पदार्थ इस समस्या के पीछे की जड़ है। चूकि सभी प्रकार के चाकलेट उत्पादन के लिए कंपनी इस पदार्थ का इस्तेमाल करती है। इसलिए पूरी जांच होने तक उत्पादन की सभी लाइनों को बंद कर दिया गया है।

एहतियाती कदमों को देखते हुए बैरी कैलेबाट ने बेल्जियम के विएज प्लांट को अनिश्चित काल के लिए बंद कर दिया है। गुरुवार को कंपनी ने बताया कि, बीते सोमवार ही एक उत्पादन लाट में साल्मोनेला के पाए जाने की पुष्टि हुई थी। इसके चलते कंपनी ने नए उत्पादन पर रोक लगा दी है।

बैरी कैलेबाट ने इस घटना की गंभीरता को देखते हुए, बेल्जियम के खाद्य अधिकारियों को सूचित कर दिया है। ऐसे में परीक्षण होने तक सभी प्रकार के उत्पादन पर रोक लगी रहेगी।

एफएवीवी को सूचित करते हुए कंपनी ने कहा है कि बैरी कैलेबाट इस जांच में समय लेगा। जांच पूरी होने के बाद सभी उत्पादन लाइनों को साफ कर फिर से उत्पादन प्रक्रिया शुरू की जाएगी। इस दौरान बैरी कैलेबाट के शेयर में 2.6 फीसद की गिरावट भी दर्ज की गई है।

Edited By: Deepak Yadav