मेक्सिको सिटी, प्रेट्र। विदेश मंत्री एस जयशंकर द्विपक्षीय संबंधों को प्रगाढ़ करने के लिए तीन दिवसीय दौरे पर मेक्सिको पहुंचे हैं। वह इस उत्तर अमेरिकी देश के साथ कारोबार, निवेश और अन्य क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग को मजबूती देंगे। बतौर विदेश मंत्री जयशंकर का यह पहला मेक्सिका दौरा है।

मेक्सिको के वित्त और सार्वजनिक ऋण मंत्री रोगेलियो रामिरेज ने जयशंकर का स्वागत किया। दोनों नेताओं ने कोरोना महामारी से निपटने में मेक्सिको के प्रयासों की चर्चा की। जयशंकर ने ट्वीट में कहा, 'मेरा स्वागत करने के लिए वित्त और सार्वजनिक ऋण मंत्री रोगेलियो रामिरेज को धन्यवाद।

अमेरिका से सीधे पहुंचे मेक्सिको

कोरोना महामारी से निपटने में मेक्सिको के प्रयासों पर उनसे बातचीत की।' उन्होंने बताया, '41 वर्षो बाद कोई भारतीय विदेश मंत्री यहां आया है।' जयशंकर मेक्सिको के विदेश मंत्री मार्सेलो एब्रार्ड के आमंत्रण पर अमेरिका से सीधे यहां पहुंचे हैं। वह मेक्सिको के राष्ट्रपति और विदेश मंत्री के अलावा कई प्रमुख कंपनियों के सीईओ से भी मुलाकात करेंगे।

सिंगापुर के विदेश मंत्री से मिले जयशंकर

विदेश मंत्री जयशंकर ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र से इतर रविवार को सिंगापुर के अपने समकक्ष विवियन बालाकृष्णन से मुलाकात की। दोनों नेताओं ने रणनीतिक तौर पर महत्वपूर्ण हिंद-प्रशांत और कोरोना महामारी से निपटने समेत कई मुद्दों पर विचार-विमर्श किया। इस मुलाकात के बाद जयशंकर मेक्सिको के लिए रवाना हो गए थे।

संयुक्त राष्ट्र महासभा में पीएम मोदी का संबोधन रहा प्रभावशाली: एस जयशंकर

वहीं, अभी हाल ही में संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) में पीएम मोदी ने जोरदार भाषण दिया था। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) के 76वें सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संबोधन को प्रभावशाली बताया था। जयशंकर ने ट्वीट कर कहा था कि प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में 12 बड़े मुद्दों का उल्लेख किया है।

यह भी पढ़ें: Bharat Bandh Photos: तस्वीरों के जरिए देखें किस तरह रहा 'भारत बंद' का असर, सड़क पर उतरे किसान