जर्मनी, एजेंसी: रूस-यूक्रेन युद्ध (Russia Ukraine War) के कारण रूस और पश्चिमी देशों के बीच तनाव कायम है। पश्चिमी देशों के द्वारा रूस पर प्रतिबंध जारी हैं तो वहीं रूस ने भी यूरोप को दी जाने वाली प्राकृतिक गैस की आपूर्ति (Natural Gas Supply) में कटौती की है। वहीं, ये कटौती ऐसे समय हुई जब यूरोप (Europe) के देशों को अपने घरों को सर्दियों में गर्म रखने के लिए गैस की सख्त जरूरत होती है। 

रूस के द्वारा दी जाने वाली प्राकृतिक गैस में कमी करने के कारण जर्मनी को भी कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। जर्मनी में लोग अक्सर किसी व्यक्ति की मृत्यु पर उसका दाह संस्कार करने के लिए ज्यादातर गैंस से चलने वाले शवदाह गृह को चुनते हैं। आने वाले समय में अगर रूस द्वारा पर्याप्त मात्रा में जर्मनी को प्राकृतिक गैस उपलब्ध नहीं कराई गई तो ये समस्या और भी बढ़ सकती है। 

प्रतिबंधों ने बढ़ाया यूरोप और मास्को के बीच तनाव

वहीं, यूक्रेन और रूस के बीच चल रहे युद्ध के कराण पश्चिमी देशों पर लगे प्रतिबंधों ने यूरोप और मास्को के बीच तनाव को बढ़ा दिया है। रूसी राज्य की गैस की दिग्गज कंपनी गज़प्रोम द्वारा आपूर्ति में संभावित कटौती के लिए पूरा देश सतर्क है और श्मशान सहित व्यवसाय, गैस की बढ़ती लागत और किसी भी तरह की समस्या से  निपटने के लिए आकस्मिक योजनाएँ विकसित कर रहे हैं।

जर्मनी के श्मशान संघ के अध्यक्ष स्वेंड-जोर्क सोबोलेव्स्की ने कहा कि किसी भी स्थिति में, इस क्षेत्र को प्राथमिकता दी जानी चाहिए, क्योंकि गैस के बिना अधिकांश श्मशान कार्य नहीं कर सकते। उन्होंने आगे कहा कि, आप मौत को रोक नहीं सकते हैं।

10 लाख मृतकों में से तीन चौथाई का होता है दाह संस्कार

जर्मनी के अंडरटेकर्स एसोसिएशन के आंकड़े बताते हैं कि जर्मनी में हर साल मरने वाले लगभग दस लाख लोगों में से लगभग तीन चौथाई का दाह संस्कार किया जाता है। एसोसिएशन के प्रमुख स्टीफ़न न्यूसर ने रॉयटर्स को बताया कि अन्य यूरोपीय देशों की तुलना में, यह एक बड़ा प्रतिशत है।

कार्ल-हेंज कोएन्सजेन, जो पश्चिमी जर्मनी के डचसेनहौसेन में एक श्मशान का प्रबंधन करते हैं, ने रायटर को बताया कि, तत्काल अवधि में, एक संभावना यह होगी कि ओवन के औसत तापमान को वर्तमान 850C से 750 डिग्री सेल्सियस (1,382°F) तक कम किया जाए, जिससे 10% से 20% गैस की बचत हो सकती है, लेकिन उन्होंने कहा कि इस उपाय के लिए राज्यों के अधिकारियों से एक विशेष परमिट की आवश्यकता होती है।

श्मशान कुछ ओवन भी बंद कर रहे हैं, जबकि अन्य लगातार चालू रखते हैं, इसलिए वे ठंडे नहीं होते हैं और अधिक गैस को फिर से गर्म करने की आवश्यकता होती है। गैस की विफलता की स्थिति में, हम उन संयंत्रों का संचालन जारी रखने में सक्षम होंगे जो गर्म हैं... इसका मतलब है कि हम तब कम बिजली के साथ काम करना जारी रख सकते हैं।

जर्मनी के श्मशान संघ के सोबोलेव्स्की ने कहा कि यह उपाय इस्तेमाल की जाने वाली गैस की मात्रा को 80% तक कम कर सकता है, लेकिन यह कि सभी शमशान गृहों में मॉडल को सही ठहराने के लिए पर्याप्त नहीं है।

जर्मनी के पर्यावरण मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि वह संभावित न्यूनतम तापमान अपवादों के लिए दिशा-निर्देश जारी करने पर राज्यों के अधिकारियों के साथ काम कर रहे हैं।

Edited By: Versha Singh