काठमांडू, प्रेट्र। कोरोना संक्रमण पर देश की जनता को संबोधित करते हुए नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने मंगलवार को कहा कि अगले दो हफ्ते महत्वपूर्ण हैं। टीवी पर अपने संबोधन में ओली ने कहा, लोग घर में ही रहें और बाहर न निकलें। लोगों से अपील में उन्होंने शारीरिक दूरी बनाए रखने पर बल दिया। नेपाल में अब तक नौ लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। 

नेपाल में 30,566 लोगों को क्वारंटाइन करने की व्यवस्था

कोरोना को हराने के लिए सरकार द्वारा की जा रही तैयारियों का ब्योरा देते हुए ओली ने कहा, नेपाल में फिलहाल 30,566 लोगों को क्वारंटाइन करने की व्यवस्था है। तीन हजार से ज्यादा आइसोलेशन बेड तैयार किए जा रहे हैं। देश में नौ हजार से ज्यादा संदिग्ध क्वारंटाइन में हैं। नेपाल सरकार ने सोमवार को देशव्यापी लॉकडाउन 15 अप्रैल तक बढ़ा दिया था। पीएम ने कहा कि विदेश से नेपाल आने वाले लोगों को पहले 14 दिनों के क्वारंटाइन का पालन करना होगा।

अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर 30 अप्रैल तक लगा प्रतिबंध

उधर, कोरोना वायरस और लॉकडाउन के कारण नेपाल ने अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर 30 अप्रैल तक प्रतिबंध बढ़ा दिया है। जबकि घरेलू उड़ानों पर 15 अप्रैल तक प्रतिबंध लागू रहेगा। ज्ञात हो कि नेपाल सरकार ने देश में  को 15 अप्रैल तक बढ़ाने का फैसला किया है। इससे पहले 7 अप्रैल तक नेपाल में लॉकडाउन का आदेश दिया गया था। ज्‍यादातर देशों ने अपने देश में विदेशियों के आने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

नेपाल ने नहीं दी अपने नागरिकों के देश में प्रवेश की अनुमति

नेपाल में लॉकडाउन लागू होने के बाद उत्‍तर प्रदेश के महराजगंज जिले के सोनौली सीमा से नेपाल में प्रवेश देने की मांग को लेकर 2 अप्रैल से नो मेंसलैंड पर धरना दे रहे 310 नेपाली नागरिकों को प्रवेश की अनुमति नहीं मिली। इसी तरह नेपाल से भारत में प्रवेश चाह रहे 126 भारतीय नागरिकों को भी रोक दिया गया। सीमावर्ती जिलों भारत के महराजगंज व नेपाल के रुपनदेही के जिला प्रशासन ने आपस में वार्ता के बाद नेपाली नागरिकों को नौतनवा इंटर कालेज में ठहराया गया है। जबकि भारतीय नागरिकों को नेपाल के बेलहिया में रखा गया है।

 

Posted By: Arun Kumar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस