यरुशलम, प्रेट। अपने निगरानी साफ्टवेयर पेगासस को लेकर विवादों में आई इजरायली कंपनी एनएसओ ग्रुप के खिलाफ जांच शुरू कर दी गई है। इजरायल की सुरक्षा एजेंसियां इस साइबर सुरक्षा कंपनी के कई दफ्तरों पर पहुंचीं और जायजा लिया। दुनिया की कई सरकारें इस कंपनी के जासूसी साफ्टवेयर पेगासस की ग्राहक हैं। इन सरकारों द्वारा इस साफ्टवेयर के जरिये कराए गए जासूसी के चलते यह कंपनी दुनिया के निशाने पर आ गई है।इजरायली रक्षा मंत्रालय के एक प्रवक्ता के अनुसार, कंपनी पर लगे आरोपों की जांच के लिए कई एजेंसियों को लगाया गया है।

इन एजेंसियों ने बुधवार को एनएसओ के दफ्तरों का निरीक्षण किया। हालांकि उन्होंने जांच के बारे में ज्यादा विवरण देने से इन्कार कर दिया। स्थानीय मीडिया के अनुसार, जांच इस बात को लेकर केंद्रित है कि कहीं कंपनी ने रक्षा मंत्रालय के निर्यात नियंत्रण विभाग से मिले परमिट और अधिकारों का उल्लंघन तो नहीं किया है। इजरायली सरकार ने एनएसओ पर लगे आरोपों की समीक्षा के लिए गत सप्ताह एक समिति बनाई थी।

बता दें कि हाल में अंतरराष्ट्रीय मीडिया में आई खबरों से सनसनी फैल गई कि पेगासस का इस्तेमाल कर भारत समेत कई देशों की सरकारें अपने यहां के नेताओं, पत्रकारों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की जासूसी करने में जुटी हैं। मीडिया में यहां तक खबर आई कि फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों की भी जासूसी की गई। इन खबरों के बीच इजरायल के रक्षा मंत्री बेनी गेंट्ज ने बुधवार को पेरिस का दौरा किया और अपने फ्रांसीसी समकक्ष को भरोसा दिलाया कि इस मामले को गंभीरता से लिया जा रहा है।

पहले ही दे दी गई थी सूचना

समाचार एजेंसी आइएएनएस के अनुसार, एनएसओ ग्रुप ने बताया कि उसे पहले ही सूचना दे दी गई थी कि संवेदनशील साइबर निर्यात की निगरानी करने वाले रक्षा मंत्रालय के अधिकारी निरीक्षण करने आएंगे। इसके साथ ही एनएसओ ने यह भी कहा कि कंपनी पूरी पारदर्शिता के साथ काम करती है।

फ्रांसीसी वित्त मंत्री के फोन की चल रही जांच

फ्रांस के वित्त मंत्री ब्रुनो ली माइरे के फोन की भी जासूसी होने की बात सामने आई है। पेगासस के जरिये जासूसी होने की पुष्टि करने के लिए उनके फोन की जांच की जा रही है। ब्रुनो ने फ्रांस इंटर रेडियो से शुक्रवार को कहा, 'हम इस समय जांच के दौर में हैं। मेरे भी फोन की जांच चल रही है।'

 

Edited By: Avinash Rai