मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

बर्लिन, जेएनएन। जर्मनी के कोलोन शहर में एक महिला ने केवल 97 दिन में जुड़वा बहनों को जन्म देकर मेडिकल साइंस को हैरान कर दिया है। दरअसल, मम ओक्साना (Mum Oxana) नाम की इस महिला ने पिछले साल 17 नवंबर को समय से पहले ही लियाना को जन्म दे दिया था। इस दौरान वह केवल 26 सप्ताह की गर्भवती थी। लियाना का वजन 2lbs ( तकरीबन 907 ग्राम) था। 

इसके तीन माह (97 दिन) बाद उसने लियोनी को जन्म दिया। यह उसकी प्रसव की अनुमानित तिथि के चार दिन बाद हुआ। कोलोन में होल्वाइड अस्पताल के एक प्रवक्ता ने कहा 'पहले बच्चे के जन्म के बाद, गर्भाशय फिर से बंद हो गया और अजन्मी बहन गर्भ में आराम से रह सकती है।' इसके बाद डॉक्टरों को लगा कि ओक्साना की गर्भ में दूसरी बच्ची आराम से पल सकती है।

मैटरनिटी (प्रसूति) विभाग के प्रमुख डॉ. यूवे शेलबेंबर्गर ने कहा ' गर्भाशय के फिर से बंद होने के कारण स्थिति बहुत अच्छी थी। इस कारण से हम महिला के गर्भ में ही दूसरे बच्चे को परिपक्व होने देना चाहते थे।' लियोनी का जन्म अपनी जुड़वां बहन लियाना के साथ कुल 97 दिनों के अंतर के साथ हुआ था और उसका वजन 8.1lbs ( तकरीबन 36 ग्राम) था।

डॉ. स्केलेनबर्गर ने कहा 'यह हमारे प्रसूति क्लिनिक के लिए भी एक दुर्लभ मामला है, लेकिन ऐसा पहली बार नहीं हुआ है। इससे पहले  होल्वाइड अस्पताल में अलग-अलग दिनों में जुड़वा बच्चों का जन्म हुआ था। लेकिन 97 दिनों का अंतर हमारे लिए अद्वितीय है और दुनिया भर में भी विशेष है।'

अस्पताल के अनुसार, इन जुड़वा बहनों ने एक विश्व रिकॉर्ड तोड़ा है। इस तरह का मामला दुनिया भर में बहुत कम देखने को मिला है। इनके अनुसार, 87 दिनों के अंतर के साथ जुड़वा बच्चों का जन्म साल 2012 में आयरलैंड में हुआ था।

लियाना ने पहले कुछ सप्ताह अस्पताल में एक प्रसवपूर्व देखभाल इकाई (perniatal care unit) में बिताया, जहां वह तब तक रुकी रही जब तक वह घर जाने के लिए पर्याप्त मजबूत नहीं हो गई। दोनों लड़कियां अब लगभग 12.5 lbs ( तकरीबन 56 ग्राम) वजन की हैं और वे अच्छी तरह से विकसित हुई हैं।

प्रवक्ता ने कहा कि दोनों लड़कियां परिवार के साथ स्वस्थ जीवन गुजार रही हैं। पिछले साल, हमारे यहां विक्की ग्रीन नाम की महिला ने 12 दिन के भीतर जुड़वां बच्चों को जन्म देकर इतिहास बनाया था।

Posted By: Tanisk

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप