नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। हर माँ अपने बच्चे की सेहत का खास ध्यान रखना चाहती है। इसी वजह से वो उसके खाने-पीने के लिए पोषक चीजें भी देना पसंद करती है। बच्चों को खाना खिलाने के लिए उनको तरह-तरह के प्रलोभन भी दिए जाते हैं। मगर ऑस्ट्रेलिया में एक अनोखा मामला प्रकाश में आया है। यहां एक स्कूल में पढ़ने के लिए जाने वाले बच्चे को उसकी माँ खाने के लिए केला देती थी। बच्चा केला खा ले, इसके लिए वो केले पर चित्रकारी कर देती थीं। 

केले की चित्रकारी देखने के लिए मचती थी होड़ 

बच्चा केले को लेकर स्कूल चला जाता था। वहां पर वो उसे निकालकर पहले देखता और अपने साथ के बच्चों को दिखाता, केले पर की गई इस तरह की कलाकारी को देखने के लिए स्कूल के बच्चों में रोजाना मारामारी होने लगी। बच्चा केला नहीं खा पाता था, बल्कि उस पर हुई चित्रकारी को देखने के लिए पूरी क्लास के बच्चे उस बच्चे के पीछे पड़ जाते थे। एक दिन स्कूल की टीचर ऐसे मौके पर ही क्लास में पहुंच गई, उसके बाद उनको पूरे मामले का पता चला। 

पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया के पर्थ का है मामला

ये मामला पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया के पर्थ में हुआ। यहां फ्रीलांस डिजाइनर और इलस्ट्रेटर रेबेका मिल्स रहती हैं। इनका एक 6 साल का बेटा जैक है। वो अपने बेटे को रोजाना खाने के लिए केले दे रही थीं, वो उस केले पर कोई न कोई चित्र भी बना देती थीं जो आकर्षक लगता था। उनके बनाए चित्र को क्लास के बाकी बच्चे भी देखते थे। एक दिन केले पर बनाई डिजाइन को केवल कुछ बच्चे ही देख पाए, दूसरे दिन फिर जब जैक केला लेकर स्कूल पहुंचा तो बाकी बच्चों में भी इस डिजाइन को देखने के लिए मारामारी मच गई। 

केले पर चित्र रोजमर्रा की परंपरा बन गए 

रेबेका अपने बेटे को जो केला दे रही थीं, वो रोजाना उस पर कोई न कोई चित्र बना देती थी। जैक की क्लास के बच्चे किसी फल पर इस तरह की चित्रकारी को देखने के लिए आकर्षित होने लगे थे। इस बात का पता चलने पर स्कूल की टीचर ने जैक से कहा कि वो अब केला लेकर स्कूल न आए। इसके लिए टीचर ने जैक की माँ से भी बात की। उन्होंने कहा कि वो केले पर किसी तरह का चित्र न बनाएं ना ही बच्चे को केला देकर स्कूल भेजे, क्योंकि उनकी केले पर बनाई गई चित्रकारी स्कूल में बच्चों के बीच झगड़े का कारण बन रही है। बच्चे एक-दूसरे से ईष्या कर रहे हैं।

टीचर की प्रतिक्रिया पर जताई खुशी 

रेबेका स्कूल टीचर की ओर से केले को लाने पर प्रतिबंध लगाने और उस पर कलाकारी किए जाने को रोके जाने पर नाराज नहीं हुई। उन्होंने कहा कि उन्हें खुशी है कि उनकी कला को पसंद किया गया। वो इस बात से खुश थी कि उनकी कला को देखने के लिए स्कूल के बच्चों में ऐसी उत्सुकता रहती थी। इस बात को रेबेका ने अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट भी किया। जाने-माने ब्रिटिश शेफ और रेस्ट्रॉटर जेमी ओलिवर ने शिक्षक के साथ असहमति जताई। उन्होंने ट्विटर पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि प्रतिबंध "केले" थे। उन्होंने अपनी प्रतिक्रिया के साथ रेबेका के पोस्ट को रिट्वीट किया 

Posted By: Vinay Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप