संयुक्त राष्ट्र, प्रेट्र।  भारत को संयुक्त राष्ट्र के सांस्कृतिक संगठन की विश्व धरोहर समिति के लिए गुरुवार को चुना गया। इसका कार्यकाल चार साल का होगा। इससे एक सप्ताह पहले भारत को यूनेस्को के कार्यकारी बोर्ड के लिए फिर से चुना गया था। वहीं सीबीआई के विशेष निदेशक प्रवीण सिन्हा को गुरुवार को इंटरपोल की कार्यकारी समिति में एशिया के एक प्रतिनिधि के रूप में चुना गया। 89वीं इंटरपोल महासभा (89th Interpol Assembly) के दौरान टाप पैनल के विभिन्न पदों के लिए यह चुनाव इस्तांबुल (Istambul) में हुआ। एक सूत्र ने बताया कि यह एक कठिन चुनाव था जिसमें भारत चीन, सिंगापुर, कोरिया गणराज्य और जार्डन के चार अन्य उम्मीदवारों के खिलाफ दो पदों के लिए चुनाव लड़ रहा था।

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने देश की इन दोनों उपलब्धियों पर प्रसन्नता जाहिर की है।

विदेश राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी ने एक ट्वीट में कहा कि यह घोषणा करते हुए मुझे खुशी हो रही है कि भारत ने एशिया प्रशांत क्षेत्र से विश्व विरासत समिति की सीट जीती है। इस ऐतिहासिक जीत के लिए मैं अपने सभी समर्थकों को धन्यवाद देती हूं।

'इंडिया एट यूनेस्को' ने ट्वीट किया कि भारत (2021-25) चार साल के कार्यकाल के लिए 142 वोटों के साथ विश्व धरोहर समिति के लिए चुना गया। इससे पहले 17 नवंबर को भारत 2021-25 के कार्यकाल के लिए यूनेस्को के कार्यकारी बोर्ड में फिर से चुना गया था। संयुक्त राष्ट्र के शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन (यूनेस्को) की इस समिति पर विश्व विरासत संधि के कार्यान्वयन की जिम्मेदारी है।

Edited By: Monika Minal