हांगकांग, एपी। पुलिस और प्रदर्शनकारियोंके बीच हांगकांग में ताजा झड़पों की खबरें हैं। पांच महीने से जारी सरकार विरोधी प्रदर्शन में मंगलवार सुबह प्रदर्शनकारियों ने सुबह की ट्रेनों के आवागमन में बाधा डाली। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े। कई विश्वविद्यालय परिसरों के आसपास प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़पें हुईं। हिंसात्मक स्थिति के चलते शिक्षण संस्थानों में कक्षाएं रद कर दी गईं। सब-वे आंशिक रूप से बंद कर दिए गए। एक ट्रेन से यात्रियों को स्टेशन से कुछ पहले ही उतार दिया गया।

हाल के दिनों में दुकानों और ट्रेनों में तोड़फोड़ की घटनाएं देखने को मिली हैं तथा प्रदर्शनकारियों और चीन समर्थकों के बीच झड़प होने की घटनाएं हुई हैं। हांगकांग की मुख्य कार्यकारी कैरी लाम ने सलाहकारों के साथ साप्ताहिक बैठक के बाद मीडिया से कहा कि सुबह के समय परिवहन सेवा को बाधित करना एक 'अत्यंत स्वार्थी कृत्य' है। उन्होंने कहा, 'मैं उन लोगों के प्रति आभार व्यक्त करती हूं जो आज भी काम पर तथा स्कूल जा रहे हैं।'

प्रदर्शनकारी के पेट में लगी गोली

बता दें कि सोमवार को एक पुलिस अधिकारी ने प्रदर्शनकारियों के साथ झड़प के दौरान एक प्रदर्शनकारी के पेट में गोली मार दी थी। वहीं, दूसरी घटना में एक विवाद के चलते एक व्यक्ति को आग लगा दी गई। हांगकांग अस्पताल के अधिकारियों ने कहा कि इन दोनों की हालत गंभीर बनी हुई है।

घटनाओं की जांच जारी

वहीं, एक वीडियो में एक पुलिसकर्मी प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए उनके बीच मोटरसाइकिल दौड़ाता नजर आता है। पुलिस ने कहा कि इन घटनाओं की जांच की जा रही है, लेकिन पुलिस अधिकारियों की कार्रवाई का यह कहकर बचाव किया कि खुद की सुरक्षा में ऐसा करना आवश्यक हो गया था। पुलिस प्रवक्ता कोंग विंग च्यूंग ने कहा कि एक व्यक्ति को आग लगाने के मामले को हत्या के प्रयास के रूप में दर्ज किया गया हैं और आरोपित का पता बताने के लिए आम लोगों से मदद मांगी गई है।

चीन ने अमेरिका और ब्रिटेन को लताड़ा

हांगकांग में बढ़ती ¨हसा पर अमेरिका और ब्रिटेन द्वारा जारी किए गए बयान पर बीजिंग ने दोनों देशों को लताड़ लगाई है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने एक नियमित ब्रीफिंग में कहा कि अमेरिका और ब्रिटेन हांगकांग की घटना पर निष्पक्ष होने का दिखावा करते हैं, लेकिन इससे केवल यह पता चलता है कि वह सही या गलत का निर्णय करने में किस कदर भ्रमित हैं। दोनों देशों का बयान एक बार फिर उनके दोहरे मानकों और परोक्ष उद्देश्यों को उजागर करता है। चीन ने अमेरिकी और अन्य विदेशी शक्तियों पर विरोध प्रदर्शन को बढ़ावा देने का आरोप लगाया।

Posted By: Manish Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप