ढाका, प्रेट्र। बांग्लादेश के पूर्व सैन्य तानाशाह हुसैन मुहम्मद इरशाद का रविवार सुबह यहां निधन हो गया। 91 वर्षीय इरशाद लंबे समय से फेफड़े और किडनी संबंधी बीमारियों से पीडि़त थे। 22 जून को उनकी हालात बिगड़ गई थी जिसके बाद उन्हें यहां सेना अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

जातीय पार्टी के प्रमुख और संसद में विपक्ष के नेता इरशाद के निधन पर राष्ट्रपति अब्दुल हामिद, प्रधानमंत्री शेख हसीना और संसद की अध्यक्ष डॉ शिरीन शर्मिन ने शोक व्यक्त किया है।

इरशाद का जन्म 1930 में भारत के मौजूदा बंगाल प्रांत के कूचबिहार जिले में हुआ था। भारत विभाजन के एक साल बाद 1948 में उनका परिवार तत्कालीन पूर्वी पाकिस्तान (वर्तमान में बांग्लादेश) चला गया था। इरशाद 1952 में पाकिस्तान की सेना में भर्ती हुए थे। नेता के साथ ही वह बतौर कवि भी खासे मशहूर थे।

1982 में रक्तहीन तख्तापलट के जरिये देश की सत्ता पर काबिज होने वाले इरशाद आठ साल तक बांग्लादेश के राष्ट्रपति रहे। अपने शासनकाल के दौरान उन्होंने धर्मनिरपेक्ष बांग्लादेश को इस्लामिक मुल्क घोषित करने का विवादित निर्णय लिया था।

1990 में हुए लोकतंत्र समर्थक आंदोलन के बाद उन्हें सत्ता छोड़नी पड़ी। इसके बाद भ्रष्टाचार संबंधी कई आरोपों में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था। कई साल जेल में रहने के बाद भी उनका बांग्लादेश की राजनीति में बड़ा नाम था।

वह पांच बार सांसद चुने गए। उन्होंने एक बार जेल में रहते हुए भी चुनाव जीता था। उनकी जातीय पार्टी देश की तीसरी सबसे बड़ी पार्टी है और कई बार गठबंधन सरकार बनाने में मुख्य भूमिका निभा चुकी है।

Posted By: Bhupendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप