काठमांडु, रायटर। नेपाल में बारिश और बाढ़ ने भारी तबाही मचाई हुई है।  यहां बारिश के कारण भूस्खलन ने कई लोगों की जान ले ली है। अधिकारियों ने शनिवार को कहा कि भारी बारिश से बाढ़ और भूस्खलन की वजह से कम से कम 23 लोग मारे गए और पश्चिमी नेपाल में हजारों लोग घायल हो गए हैं। जिला प्रशासन ज्ञान नाथ ढकाल ने कहा कि राजधानी काठमांडू के उत्तर-पश्चिम में 200 किलोमीटर (125 मील) उत्तर प्रदेश में नौ लोग मारे गए और 30 से अधिक लोग लापता हो गए।

ढकाल ने कहा कि फिल मृत्यों और घायलों दोनों की ही संख्या बढ़ने की उम्मीद है क्योंकि बचाव दल पीड़ितों की तलाश के लिए सुदूर स्थल पर जांच कर रहे हैं। पड़ोसी कास्की जिले में, पोखरा के पर्यटन शहर में एक दूसरे सरकारी अधिकारी ने कहा कि सात लोग मारे गए। सुदूर पश्चिम में जाजरकोट जिले में सात और मारे गए।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी किशोर श्रेष्ठ ने कहा कि हम उन आठ लोगों की तलाश कर रहे हैं जो अभी भी लापता हैं। पुलिस ने कहा कि भारत की सीमा से लगे दक्षिणी मैदानों में, कोशी नदी, जो लगभग हर साल पूर्वी भारतीय राज्य बिहार में जानलेवा बाढ़ का कारण बनती है, खतरे के स्तर से ऊपर बह रही है। हर साल जून-सितंबर मानसून के दौरान पहाड़ी नेपाल में भूस्खलन और बाढ़ की घटनाएं आम होती हैं।

बता दें कि देश में लगातार हो रही भारी बारिश को देखते हुए बागमती,  गंडक और कमला के निचले इलाके में बसे लोगों को हटाया दिया जाएगा। इसी के साथ मुख्य सचिव दीपक कुमार ने सीमावर्ती जिलों के डीएम को हर स्थिति में राहत और बचाव के लिए पूरी तरह से तैयार रहने का आदेश दिया। संबंधित जिलों के डीएम को कहा गया है कि वह स्थिति का जायजा लेने के साथ ही लोगों को हटा कर सुरक्षित जगहों पर ले जाएं। 

Posted By: Ayushi Tyagi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस