हांगकांग, रायटर। हांगकांग पॉलीटेक्निक विश्वविद्यालय में हथियार एकत्रित करने और पुलिस पर हमला करने के आरोपी आठ छात्रों ने शुक्रवार को आत्मसमर्पण कर दिया। विश्वविद्यालय परिसर के बाहर लगे कैमरों में इन छात्रों को फोटो आ गई थी और पुलिस उनकी तलाश में जुटी थी।

विश्वविद्यालय लगभग खाली हो चुका है लेकिन उसकी घेराबंदी जारी है। पुलिस ने स्पष्ट नहीं किया है कि यह घेरा कब हटाया जाएगा। महानगर के बाकी इलाकों में शांति है। पुलिस ने रविवार को होने वाले स्थानीय चुनावों के लिए तैयारियों को अंतिम रूप देना शुरू कर दिया है।

इसी सप्ताह हांगकांग के पुलिस प्रमुख का पद संभालने वाले क्रिस टांग ने विश्वविद्यालय परिसर में मौजूद सभी लोगों से बाहर आने की अपील की है। कहा है कि यह इसलिए भी जरूरी है कि पुलिस की घेराबंदी के चलते अब वहां से बच निकलना मुश्किल है और इस स्थिति में फंसे लोगों के परिजन चिंता कर रहे होंगे। जो लोग दंगा करने या अन्य गंभीर आरोपों से घिरे हुए हैं, वे पुलिस के हाथ आने तक छिपे रह सकते हैं।

परिसर में छाया रहा सन्नाटा 

शुक्रवार को विश्वविद्यालय परिसर में सन्नाटा छाया रहा। वहां पर नजदीक स्थित चीनी सेना के ठिकाने से परेड और एक्सरसाइज के दौरान होने वाली आवाजें सुनाई देती रहीं।

काले कपड़े और फेस मास्क मिले

परिसर की तलाशी में पुलिस को ज्यादातर सीसीटीवी कैमरे टूटे मिले। बड़ी संख्या में पानी की खाली बोतलें और सिगरेट के खाली पैकेट मिले। जहां-तहां आंदोलन के दौरान पहने जाने वाले काले कपड़े और फेस मास्क भी मिले। परिसर से खासतौर पर डिजायन एक समुराई तलवार भी मिली।

फिर से कोशिश शुरू की जाएगी

अपना नाम शीबा बताने वाले 23 वर्ष के आंदोलनकारी छात्र ने बताया कि उन्हें थोड़ी थकावट हुई है। लेकिन इससे उन्हें खास फर्क नहीं पड़ता। जल्द ही फिर से कोशिश शुरू की जाएगी। शीबा विश्वविद्यालय की कैंटीन से नूडल्स खाकर अपने दिन काट रहा है। रायटर के संवाददाता ने समर्पण करने वाले छह छात्रों को काले कपड़ों में साथ पुलिस लाइन में टहलते देखा। वे सामान्य नजर आ रहे थे।

Posted By: Manish Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस