Move to Jagran APP

फ्रांस में श्रमिक संघों के प्रदर्शन से चरमराई परिवहन व्यवस्था, प्रदर्शनकारियों ने बड़े पैमाने पर किया चक्काजाम

फ्रांस में श्रमिकों की हड़ताल से परिवहन व्यवस्था बुरी तरह चरमरा गई। राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के संसद में बिना मतदान कराए सेवानिवृत्त होने की अधिकमत आयु बढ़ाए जाने के बाद लोगों का गुस्सा फूटने के बाद देश के श्रमिक संगठनों ने गुरुवार को पहली बार बड़े पैमाने पर प्रदर्शन किया।

By AgencyEdited By: Amit SinghPublished: Fri, 24 Mar 2023 12:18 AM (IST)Updated: Fri, 24 Mar 2023 12:18 AM (IST)
फ्रांस में श्रमिक संघों के प्रदर्शन से चरमराई परिवहन व्यवस्था

पेरिस, एपी: फ्रांस में श्रमिकों की हड़ताल से गुरुवार को परिवहन व्यवस्था बुरी तरह चरमरा गई। राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के संसद में बिना मतदान कराए सेवानिवृत्त होने की अधिकमत आयु बढ़ाए जाने के बाद लोगों का गुस्सा फूटने के बाद देश के श्रमिक संगठनों ने गुरुवार को पहली बार बड़े पैमाने पर प्रदर्शन किया।

प्रदर्शनकारियों ने लगाया जाम

प्रदर्शनकारियों ने रेलवे स्टेशनों, पेरिस में चा‌र्ल्स डे गौल्ले हवाई अड्डे और रिफाइनरी पर जाम लगाया। इससे हाई स्पीड एवं अन्य ट्रेनें, पेरिस मेट्रो और अन्य बड़े शहरों में सार्वजनिक यातायात प्रणाली बाधित हुई। पेरिस के ओर्ले हवाई अड्डे पर करीब 30 प्रतिशत उड़ानें निरस्त कर दी गईं। फ्रांस के आठ मुख्य श्रमिक संघ जनवरी से आंदोलन कर रहे हैं।

राष्ट्रव्यापी हड़ताल का नौंवा चरण

गुरुवार को राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन एवं हड़ताल का नौंवा चरण था। पेंशन सुधार और मैक्रों के नेतृत्व के विरोध में होने वाले छिटपुट प्रदर्शनों में हाल के दिनों में हिंसा तेज हो गई है। दूसरी तरफ फ्रांस के नेता सड़कों पर उतर आए असंतोष का डटकर विरोध कर रहे हैं। नेताओं ने बुधवार को कहा कि सेवानिवृत्ति आयुसीमा को 62 से बढ़ाकर 64 वर्ष करने के सरकार के विधेयक को वर्ष के अंत तक लागू किया जाना चाहिए।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.