मेलबोर्न, एएफपी। भूटान की जुड़वां बच्चियों को ऑस्ट्रेलिया में सर्जरी कर अलग किया गया। ये बच्चियां 15 महीने की थीं और जन्म से ही एक-दूसरे से जुड़ी हुई थीं। इन बच्चियों को मेलबर्न में सर्जरी से अलग किया गया। बच्चियों का नाम निमा और दावा है शुक्रवार को हुई सर्जरी में इन बच्चियों एक-दूसरे से अलग किया गया ऑपरेशन के बाद दोनों ही बच्चियां सुरक्षित हैं। भूटानी मूल की इन बच्चियों की सर्जरी डॉक्टर जो क्रामेरी ने की।  डॉक्टर जो क्रामेरी ने बताया कि इन बच्चों को अलग करने के लिए की गई इस सर्जरी में लगभग 6 घंटे का समय लगा। इन जुड़वा बच्चियों के जुड़े अंगों को बिना किसी नुकसान के अलग करना काफी मुश्किल था। 

मीडिया की खबरों की मानें तो ये बच्चियां एक-दूसरे के पेट से जुड़ी हुईं थीं और इन दोनों बच्चियों का लीवर एक ही था।  दोनों ही अपनी जुड़ी हुई आंत पर निर्भर थीं। अक्टूबर के महीने में इन बच्चियों को सर्जरी के लिये मेलबोर्न लाया गया, लेकिन तब यह सर्जरी नहीं की जा सकी क्योंकि बच्चियां उस समय सर्जरी के लायक नहीं थी इसके लिए पहले उन्हें थोड़ा और डाइट दी गई ताकि वो शारीरिक रूप से और मजबूत होकर ऑपरेशन के लायक बन सकें।  एक महीने बाद  डॉक्टरों की निगरानी में रहने के बाद  जब ये बच्चियां सर्जरी के लायक हो गईं तब उनका सफल ऑपरेशन किया गया। 

डॉक्टर जो क्रोमेरी ने लगभग 20 से भी ज्यादा लोगों की टीम के साथ मिलकर इस सर्जरी को सफल बनाया। उन्होंने बताया कि बच्चियों की देखभाल के लिए टीम को बांटा गया, यह सर्जरी हमारे लिये एक बहुत बड़ी चुनौती थी, क्यों कि दोनों बच्चियों के पेट के आंतरिक भाग एक-दूसरे से जुड़े हुए थे, दोनों एक लीवर पर जिंदा थीं। उन्हें सफलता पूर्वक अलग कर पाना वाकई कठिन काम था। 

इन बच्चियों और उनकी मां भूमचु जैन्ग्मो को ऑस्ट्रेलिया की एक चिल्ड्रेन फाउंडेशन ने भूटान से मेलबर्न के लिए बुलाया था। 38 वर्षीय भूमचु जैन्ग्मो शुरुआत में अपनी बच्चियों के इस ऑपरेशन को लेकर बहुत डरी हुई थी। अब सर्जरी सफल हो जाने के बाद जल्दी ही मां और उनकी बेटियों को भूटान भेज दिया जाएगा।

Posted By: Ravindra Pratap Sing