हनोई, एजेंसियां। दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों के संगठन आसियान के नेताओं ने मंगलवार की सुबह वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से कोविड-19 संकट से निपटने और इस पर काबू पाने की रणनीति पर विचार-विमर्श किया। आसियान सम्मेलन 2020 का अध्यक्ष होने के नाते वियतनाम के प्रधानमंत्री गुयेन जुआन फुच ने इस बैठक की अध्यक्षता की। इसमें ब्रुनेई, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओस, मलेशिया, म्यांमार, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड और वियतनाम के शासन प्रमुखों ने हिस्सा लिया। इसके अलावा तीन आसियान सहयोगी चीन, जापान और दक्षिण कोरिया ने भी हिस्‍सा लिया।  

फुच ने कहा, वायरस लोगों के जीवन और उनकी सामाजिक-आर्थिक स्थिति को बुरी तरह प्रभावित करेगा

शिन्हुआ समाचार एजेंसी के मुताबिक इसमें आसियान के महासचिव भी मौजूद थे। वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान शुरुआती टिप्पणियों में फुच ने वायरस से लड़ने में अब तक आसियान के काम की सराहना की। लेकिन, उन्होंने चेतावनी दी कि कोविड-19 ने लोगों के जीवन, उनकी सामाजिक-आर्थिक स्थिति और सामाजिक सुरक्षा को बुरी तरह प्रभावित करेगा। वियतनाम दक्षिण-पूर्व एशिया की पस्त अर्थव्यवस्थाओं के लिए एक निकास रणनीति का भी आह्वान करेगा, जो पर्यटन के लिए खुली सीमाओं पर निर्भर हैं।

उन्‍होंने कहा कि सभी आसियान सदस्य देशों ने महामारी से लड़ने का प्रयास किया है, जिसने सभी नागरिकों और सामाजिक-आर्थिक विकास को नुकसान पहुंचाया है, विशेष रूप से सेवा क्षेत्र जो आसियान की कुल जीडीपी का 30 प्रतिशत हिस्सा लिया है, जिससे स्थिरता और सामाजिक सुरक्षा को खतरा है। 

एक दूसरे के सहयोग का समर्थन किया 

सदस्य देशों ने स्वास्थ्य देखभाल, राष्ट्रीय रक्षा, अर्थव्यवस्था और पर्यटन में सहयोग बढ़ावा देने और और एक दूसरे के सहयोग का समर्थन किया। उन्होंने कहा कि आसियान देशों के प्रयासों से महामारी के नियंत्रण पर उत्साहजनक परिणाम सामने आए हैं। आसियान में COVID-19 मामलों की संख्या वैश्विक स्तर की तुलना में 650 मिलियन से अधिक नागरिकों के बीच लगभग 15,000 है। उन्होंने कहा कि यह प्रारंभिक परिणाम हमें और अधिक आत्मविश्वास महसूस कराता है, लेकिन हमें व्यक्तिपरक नहीं होना चाहिए। हमें एकजुट और उत्तरदायी की भावना में कार्यों में अधिक दृढ़ होना चाहिए।  

किन देशों में कितना फैला कोरोना संक्रमण 

वियतनाम में कोरोना वायरस के 265 मामले हैं और किसी की इससे मौत नहीं हुई है। थाईलैंड में संक्रमण के 2,500 से अधिक मामले मिले हैं और यहां पर 40 लोगों की मौत हुई है। क्षेत्र के अन्य देशों में मिले-जुले हालात हैं। इंडोनेशिया के बारे में माना जाता है कि वहां सीमित परीक्षण हुआ है। वहां 400 लोगों की मौत हुई है। सिंगापुर में हुए मामलों की वृद्धि ने आशंका पैदा कर दी है कि बीमारी उन स्थानों पर फिर से वापस लौट सकती है, जहां पहले दौर में इसे थाम लिया गया था।

 

Posted By: Arun Kumar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस