रियाद, एजेंसी। भारत की कूटनीतिक घेराबंदी के कारण पूरे विश्व में कश्मीर मुद्दे पर जबरदस्त शिकस्त खाने के बाद भी पाकिस्तान की बौखलाहट कम नहीं हो रही है। पाकिस्तान लगातार इस मुद्दे को वैश्विक समुदाय में उठाने की कोशिश कर रहा है और इसमें नाकाम हो रहा है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान गुरुवार को सऊदी अरब की दो दिवसीय यात्रा के दौरान जेद्दा पहुंचे। इस दौरान उन्होंने सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान से मुलाकात की और कश्मीर मुद्दा उठाया। 

बयानबाजी छोड़कर बातचीत की पहल शुरू करे पाकिस्तान

इस पर प्रिंस सलमान ने क्या प्रतिक्रिया दी यह पता नहीं चल सका है। हालांकि, सऊदी ही नहीं दुनिया के प्रभावी मुस्लिम देश कश्मीर मुद्दे पर क्या सोचते ये बात किसी से छिपी नहीं है। पिछले दिनों इन देशों ने पाकिस्तान को दो टूक समझा दिया था कि वह अनाप शनाप बयानबाजी छोड़कर भारत के साथ बातचीत की पहल शुरू करे। ताकि दोनों देशों के बीच कश्‍मीर मसले को लेकर उपजे तनाव को कम किया जा सके।  

मुस्लिम राष्‍ट्रों का पाकिस्तान को संदेश

पाकिस्‍तानी अखबार 'द एक्‍सप्रेस ट्रिब्‍यून' कि एक रिपोर्ट के मुताबिक तीन सितंबर को जब सऊदी अरब के विदेश मंत्री अदेल अल-जुबेर और संयुक्‍त अरब अमीरात के विदेश मंत्री अब्‍दुल्‍लाह बिन अल-नाहयान पाकिस्तान दौरे पर आए थे। इस दौरान इन्होंने अपने अपने देशों के शीर्ष नेतृत्‍व के साथ कुछ अन्‍य शक्तिशाली मुस्लिम राष्‍ट्रों का संदेश पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री इमरान खान को सौंपा था। साथ ही उन्होंने इमरान को साफ-साफ कह दिया था कि वह भारत के साथ बैक डोर डिप्‍लोमेसी शुरू करें।

इमरान के साथ 11 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल 

जानकारी अनुसार प्रिंस सलमान के साथ मुलाकात में इमरान ने सऊदी अरब में अरामको तेल संयंत्रों पर हाल ही में हुए हमलों की भी निंदा की। इस दौरान दोनों के बीच आपसी हितों और द्विपक्षीय संबंधों के मुद्दों पर चर्चा हुई। इससे पहले जेद्दा के रॉयल टर्मिनल पर मक्का के गवर्नर खालिद बिन फैसल अल सऊद और सऊदी अरब के विदेश मंत्री डॉ इब्राहिम अल आसफ ने इमरान खान की अगवानी की। इस दौरे पर खान के साथ 11 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल गया है।  

Posted By: Tanisk

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस