टोक्‍यो (एएनआई)। यूक्रेन और रूस के बीच युद्ध छिड़ने की आशंका के मद्देनजर कई देश काफी चिंता में हैं। लगातार इस तरह की खबरों ने यूक्रेनवासियों के मन में भी दहशत व्‍याप्‍त कर दी है। धीरे-धीरे कई देश यूक्रेन में मौजूद अपने नागरिकों को या फिर वहां जाने का प्‍लान बना रहे लोगों को ऐसा न करने के लिए आगाह करने मेंलगे हैं। पहले अमेरिका ने वहां से अपने दूतावास कर्मियों के परिवारवालों को यूक्रेन छोड़कर स्‍वदेश आने को कहा था। इसके बाद कनाडा ने यूक्रेन में मौजूद अपने लोगों को वापस आने और वहां जाने का प्‍लान बनाने वालों को ऐसा न करने के लिए एडवाइजरी जारी की थी। अब जापान ने भी अपने नागरिकों से सतर्क और सुरक्षित रहने को कहा है।

जापान की सरकार ने अपने उन नागरिकों से जो यूक्रेन में मौजूद हैं, से अपील की है कि वो किसी भी तरह की विपरीत परिस्थिति के लिए खुद को तैयार रखें। जापान के केबिनेट सेक्रेट्री का कहना है कि यूक्रेन में हालात कभी भी बदल सकते हैं। ऐसे में नागरिकों को तैयार रहना होगा और खुद को सुरक्षित रखने के बारे में सोचना होगा। उनका ये भी कहना है कि जापान लगातार यूक्रेन के हालातों पर करीब से निगाह रखे हुए है और वो उन देशों के संपर्क में भी है जो हालातों में बदलाव की आहट को देख पा रहे हैं। इसलिए हमें भी बिना समय गंवाए जरूरी और त्‍वरित फैसले लेने होंगे। इसलिए जापान ने अपने नागरिकों से कहा है कि वो हालात के बदलने की स्थिति के लिए खुद को पूरी तरह से तैयार रखें और खुद को सुरक्षित बनाए रखने के उपाय करें।

इससे पहले सोमवार को अमेरिका ने अपने नागरिकों के लिए ट्रैवल एडवाइजरी जारी कर यूक्रेन और रूस न जाने को कहा था। इसके अलावा अमेरिका ने यूक्रेन में मौजूद अपने नागरिकों से यूक्रेन छोड़ने को भी कहा था। आपको बता दें कि पश्चिमी देश लगातार इस तनाव को बढ़ाने के लिए रूस को कटघरे में खड़ा कर रहे हैं। पश्चिमी देशों समेत अमेरिका का आरोप है कि रूस ने यूक्रेन की सीमा पर अपने हजारों जवानों तो भारी हथियारों के साथ तैनात किया हुआ है। वहीं अमेरिका ने यहां तक कह दिया है कि वो युद्ध की सूरत में हर संभव मदद यूक्रेन को देगा। वहीं रूस लगातार अपने ऊपर लगे आरोपों को बेबुनियाद बता रहा है। रूस का कहना है कि नाटो की सेनाओं ने यूक्रेन की सीमा पर जमावड़ा किया हुआ है।

Edited By: Kamal Verma