मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

ताइपे, रायटर। चीन और ताइवान में तनाव के बीच अमेरिका के दो युद्धपोत गुरुवार को ताइवान जलडमरूमध्य से गुजरे। ताइवान की सरकार ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि उसके जलक्षेत्र में इस साल यह अपनी तरह का पहला अभियान है। ताइवान के रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि वह अपने समुद्री क्षेत्र में सैन्य हलचल पर नजर बनाए है ताकि सागर में सुरक्षा का माहौल और क्षेत्रीय स्थिरता कायम रहे।

सामरिक रूप से महत्वपूर्ण ताइवान जलडमरूमध्य में अमेरिका द्वारा अपने जंगी जहाज भेजने के कदम को ताइवान का खुलकर समर्थन माना जा रहा है। इससे चीन और ताइवान के रिश्ते और खराब हो सकते हैं। चीन, ताइवान को स्वतंत्र देश नहीं बल्कि अपना हिस्सा मानता है।

हाल में उसने स्वशासित ताइवान को अपने कब्जे में लेने के लिए सेना के इस्तेमाल की धमकी भी दी थी। इसके जवाब में ताइवान की राष्ट्रपति ने अपनी संप्रभुता की रक्षा करने की बात कही थी। साथ ही उन्होंने विश्व समुदाय से मदद भी मांगी थी। ताइवान में राष्ट्रपति साई इंग वेन के सत्ता में आने के बाद से चीन से उसके रिश्ते ज्यादा तनावपूर्ण हो गए हैं।

 

Posted By: Arun Kumar Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप