ताइपेई, रायटर। ताइवान चीन के साथ हथियारों की दौड़ में शामिल होने की कोशिश नहीं कर रहा है, लेकिन उसे अपना बचाव करने की जरूरत है और दबाव में नहीं आएगा। ताइवान के रक्षा मंत्रालय ने बुधवार को संसद को एक रिपोर्ट में यह बात कही। ताइवान और चीन के बीच तनाव पिछले एक साल में काफी बढ़ गया है। चीन लोकतांत्रिक रूप से शासित द्वीप ताइवान को अपने क्षेत्र के रूप में दावा करता है। बीजिंग ने ताइवान को चीनी संप्रभुता को स्वीकार करने के लिए मजबूर करने के लिए अपने सैन्य और राजनीतिक दबाव को बढ़ा दिया है। इसमें पिछले कई महीनों से ताइवान के वायु रक्षा पहचान क्षेत्र में चीनी युद्धक विमानों द्वारा बार-बार किए गए मिशन शामिल हैं, जो ताइवान के क्षेत्रीय हवाई क्षेत्र की तुलना में व्यापक क्षेत्र को कवर करता है। इस पर ताइवान किसी भी खतरे का जवाब देने के लिए इसे और अधिक समय देने के लिए निगरानी और गश्त करता है।

इस बीच चीन सैन्य आधुनिकीकरण कार्यक्रम को बढ़ावा दे रहा है। चुपके-चुपके नए विमान वाहक और फाइटर्स का निर्माण कर रहा है। वहीं दूसरी ओर नई मिसाइलों और पनडुब्बियों के विकास पर ताइवान भी अपना सैन्य खर्च बढ़ा रहा है। संसद को अपनी रिपोर्ट में ताइवान के रक्षा मंत्रालय ने अपने जलडमरूमध्य की स्थिति का वर्णन किया जो इसे अपने विशाल पड़ोसी से 'गंभीर और अस्थिर' के रूप में अलग करता है। चीन की सैन्य कार्रवाई को 'उकसाने' वाली बता रहा है।

रिपोर्ट में कहा गया कि ताइवान चीनी कम्युनिस्टों की सेना के साथ हथियारों की दौड़ में शामिल नहीं होगा और जलडमरूमध्य में शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व की उम्मीद में सैन्य टकराव की तलाश नहीं करेगा, लेकिन हमारी राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए चीनी कम्युनिस्टों के खतरे के सामने हम अपने देश की संप्रभुता की रक्षा करने की पूरी कोशिश करेंगे और कभी भी दबाव में नहीं आएंगे। इसे ताइवान और चीन के बीच 'टकराव' कहा गया है, जिसे थोड़े समय में कम करना मुश्किल होगा।

इसमें कहा गया है कि ताइवान की सेना चीनी विमानों और जहाजों की निगरानी के लिए अपनी क्षमताओं को बेहतर बनाने का प्रयास करेगी, ताकि वह पहले प्रतिक्रिया दे सके और विदेशों के साथ खुफिया जानकारी का आदान-प्रदान भी कर सके, ताकि उसे क्षेत्रीय सुरक्षा स्थिति को पूरी तरह से अवगत कराया जा सके।

इससे पहले बुधवार को बीजिंग में चीनी प्रवक्ता ने ताइवान की औपचारिक स्वतंत्रता को रोकने और द्वीप को चीन के शासन के तहत लाने के लिए अपने दृढ़ संकल्प को दोहराया, विशेष रूप से शांतिपूर्वक। चीन के ताइवान मामलों के प्रवक्ता मा शियाओगुआंग ने कहा कि हम बल प्रयोग को त्यागने का वादा नहीं करते हैं और सभी आवश्यक उपाय करने का विकल्प सुरक्षित रखते हैं।

इसके जवाब में लोकतांत्रिक रूप से शासित ताइवान का कहना है कि वह एक स्वतंत्र देश है। अगर हमारे देश पर हमला किया गया तो हम अपनी रक्षा करेंगे। चीन और ताइवान के बीच तनाव ने एक ऐसे संघर्ष की अंतरराष्ट्रीय चिंता को जन्म दिया है जो संयुक्त राज्य अमेरिका और उसके सहयोगियों को चीन के खिलाफ खड़ा कर सकता है।

Edited By: Arun Kumar Singh