बीजिंग, एजेंसी। चीन में कोरना के बढ़ते लगातार मामले और जीरो कोविड पॅालिसी से परेशान जनता को बुधवार को एक राहत भरी खबर मिली। चीन में बुजुर्गों को लिए एक विशेष टीकाकरण अभियान चलाया जाएगा। साथ ही चीन में कोरोना के रोकथाम के लिए लगाए गए कई कड़े प्रतिबंध पर भी रोक लगाई जा सकती है। चीनी सरकार द्वारा इस कोरोना के खिलाफ नियमों को ढील देने के पीछे जनता का शी जिनपिंग सरकार के खिलाफ 'विद्रोह' को एक बड़ी वजह बताई जा रही है। बता दें कि चीन में राष्ट्रपति शी जिनपिंग की सख्त जीरो कोविड नीति से तंग आकर लोग सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। गौरतलब है कि सोमवार को राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग द्वारा बुजुर्गों के लिए टीकाकरण अभियान चलाने के ऐलान के बाद शेयर बाजार में तेजी आई है।

इस समय शून्य-कोविड नीति को पूरी तरह से खत्म कर पाना मुमकिन नहीं

हालांकि चीन के स्वास्थ्य विशेषज्ञों और अर्थशास्त्रियों ने चेतावनी दी है कि टीकाकरण अभियान में कई महीने लगेंगे। इसके अलावा, चीन में कई और अस्पतालों का निर्माण भी करना होगा और वायरस के खिलाफ एक दीर्घकालिक रणनीति तैयार करने की आवश्यकता है। स्वास्थ्य विभाग ने आगे जानकारी दी कि 'शून्य कोविड नीति' साल 2023 के मध्य तक और संभवतः 2024 तक लागू रह सकती है।

कैपिटल इकोनॉमिक्स के मुख्य एशिया अर्थशास्त्री मार्क विलियम्स ने कहा, ' इस समय चीन अपनी शून्य-कोविड नीति को पूरी तरह से खत्म करने की स्थिति में नहीं है। चीन में स्वास्थ्य देखभाल क्षमता बहुत कमजोर है। जिन परिवारों को चार महीने से घर में बंद कर दिया गया है, उनका कहना है कि उन्हें भोजन और दवा के लिए जद्दोजहद करना पड़ा रहा है।

यह भी पढ़ें: Fact Check: राहुल गांधी ने नहीं दिया महिलाओं को लेकर ये आपत्तिजनक बयान, आधी-अधूरी क्लिप वायरल

मोबाइल वैक्सीनेशन यूनिट के जरिए बुजुर्गों को मिलेगी टीका की सुविधा

राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने कहा कि टीकाकरण अभियान में 60 साल आयुवर्ग से ऊपर वाले लोगों को टीका लगाया जाएगा। आयोग ने आगे जानकारी दी कि उन सभी बुजुर्गों को जिनकी उम्र 70 या 80 साल के ऊपर है और जो घर से बाहर जाकर टीका लेने में असमर्थ हैं, उन्हें मोबाइल वैक्सीनेशन यूनिट की सुविधा प्रदान की जाएगी। यानी उनके घरों तक जाकर उन्हें वैक्शीन लगाई जाएगी।

आयोग के अनुसार, 10 में से नौ चीनी लोगों को टीका लगाया गया है, लेकिन 80 साल के ऊपर वाले बुजुर्गों में केवल 66 प्रतिशत लोगों को ही सिर्फ टीका का एक शॉट लगा है, जबकि 40 प्रतिशत लोगों को बूस्टर शॉट लग चुका है। आयोग के मुताबिक, 60 वर्ष से अधिक आयु के 86 प्रतिशत लोगों को टीका लगाया जा चुका है। आयोग के प्रवक्ता एमआई फेंग ने कहा, 'हमें उम्मीद है कि इस अभियान में हमारे देश के बुजुर्ग बढ़ चढ़कर हिस्सा लेंगे।

कोविड प्रतिबंधों को कभी नहीं हटाएगा चीन: श्वसन विशेषज्ञ

बता दें कि बुधवार को स्वास्थ्य आयोग ने जानकारी दी कि पिछले 24 घंटों में 37,828 नए मामले दर्ज किए, जिनमें 33,540 बिना लक्षण (Asymptotic) वाले थे। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, चीन के अस्पताल में हर 4.3 प्रति व्यक्ति के दर पर 1 बेड उपलब्ध है। जापान में बेड मिलने का यह दर 13 है वहीं, दक्षिण कोरिया में दर 12.5 है। वुहान विश्वविद्यालय के पीपुल्स अस्पताल के श्वसन विशेषज्ञ यू चांगपिंग ने आगे कहा, 'चीन अन्य देशों की तरह कभी भी पूरी तरह से कोविड प्रतिबंधों को नहीं हटाएगा।' उन्होंने कहा कि यह महामारी अगले तीन या पांच वर्षों में गायब नहीं होगी और यह महामारी कभी भी खत्म नहीं हो सकती है।'

यह भी पढ़ेंपेंटागन की रिपोर्ट में दावा- चीन ने दी अमेरिका को चेतावनी, कहा- भारत के साथ उसके संबंधों में ना दें हस्‍तक्षेप

Edited By: Piyush Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट