नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। इन दिनों दुनियाभर में कोरोना वायरस को लेकर चिंता की जा रही है। चीन, पाकिस्तान, अमेरिका जैसे कई देश इस वायरस को लेकर अपने यहां पहले ही एलर्ट घोषित कर चुके हैं। सबसे पहले ये वायरस चीन में पाया गया, उसके बाद से ही वहां पर एलर्ट हैं।

इस वायरस से अब तक 56 लोगों की मौत हो चुकी है। हजारों लोगों का अलग-अलग देशों में इलाज चल रहा है। हम आपको बता रहे हैं कि चीन के किस बाजार से इस वायरस के फैलने की सबसे अधिक संभावनाएं जताई जा रही हैं। चीन के वुहान शहर में इससे जुड़े सबसे ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। एक करोड़ से अधिक की आबादी वाला वुहान एक प्रमुख परिवहन केंद्र है। 

भेड़िये के बच्चे से लेकर कस्तूरी बिलाव तक मिलते खाने को 

चीन के शंघाई शहर में खाद्य पदार्थों का सबसे बड़ा बाजार है। ये बाजार वुहान शहर में है। इसी बाजार में सबसे पहले कोरोना वायरस के सामने आने की बात कही जा रही है। इनमें कस्तूरी बिलाव जैसे कई ऐसे जीव हैं, जिसका संबंध चीन में पहले भी महामारियां फैलाने से रहा है। इस बाजार में खाने के लिए भेड़िये के बच्चे से लेकर कस्तूरी बिलाव जैसी विभिन्न प्रजातियों के वन्यजीव मिलते हैं।

चीनी मीडिया के मुताबिक वुहान के हुआनान सीफूड बाजार की कड़ी निगरानी की जा रही है, जिसके बारे में चीनी अधिकारियों ने कहा कि जिस वायरस से अभी तक लोग मारे जा चुके हैं और सैकड़ों प्रभावित हैं। अनुमान है कि वह इसी खाद्य बाजार में बेचे गए एक जंगली जानवर से फैला है, इसके बाद ये अब दूसरे देशों में भी फैल चुका है। 

चीन में महामारियों के जिम्मेदार जंगली जानवर 

इससे पहले भी चीन में फैलीं जानलेवा महामारियों का कारण भी जंगली जानवर ही थे। गंभीर तीव्र श्वसन सिंड्रोम (सार्स) चीन में कस्तूरी बिलाव खाने से संबंधित था। ताजा वायरस के प्रकोप से चीनी अधिकारियों को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ रहा है। ये माना जा रहा है कि यहां वन्यजीव तस्करी की निगरानी में ढिलाई बरती गई जिसकी वजह से ये प्रदूषित जंगली जानवर मार्केट में बेचे गए और लोगों ने इसका सेवन किया उसके बाद वो बीमार हुए।

इंटरनेट पर उपलब्ध रेट लिस्ट 

इंटरनेट पर उपलब्ध रेट लिस्ट के अनुसार यहां जीवित लोमड़ी, मगरमच्छ, भेड़िया, सलामैंडर, सांप, चूहे, मोर, साही और ऊंट के मांस सहित 112 आइटम उपलब्ध हैं। जैसे भारत में ताजा कटा हुआ फल कहकर दुकानदार अपने सामान बेचते हैं ठीक उसी तरह से इस बाजार में भी ताजा कटा हुआ, जमा हुआ और आपके दरवाजे तक, पहुंचाने की जिम्मेदारी लेकर इन जानवरों की मांस बेची जाती है। 

जानवरों के व्यापार पर है प्रतिबंध 

चीन के रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र के निदेशक गाओ फू ने कहा कि अधिकारियों का मानना है कि संभव है कि ये वायरस सीफूड मार्केट में जंगली जानवर से आया है। चीन में कई जंगली जानवरों के व्यापार पर प्रतिबंध है और इसके लिए विशेष लाइसेंस लेना पड़ता है, लेकिन नियम ढीले हैं। इसी वजह से ये बीमारी इतने बड़े पैमाने पर फैली है। 

सार्स वायरस 

चीन में सार्स जैसे नए वायरस की चपेट में आने से मरने वालों की संख्सा में इजाफा हो रहा है। अब तक देश में इसके करीब 500 मामले सामने आ चुके हैं। सार्स के बारे में भी पाया गया था कि यह चीन के वन्यजीव बाजार में उपलब्ध कस्तूरी बिलाव में पाया गया था। वैज्ञानिकों का मानना है कि चमगादड़ों ने बिल्ली जैसे जीवों को इससे संक्रमित किया और फिर इंसानों द्वारा इन बिल्लियों को खाने से यह इंसानों में फैला, इसके बाद ये फैलता चला गया।

 

Posted By: Vinay Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस