बीजिंग, पीटीआइ। कोरोना वायरस से जूझ रहे चीन की मदद के लिए भारत ने अपना हाथ आगे बढ़ाया है। भारत इस हफ्ते के अंत में चिकित्सा सामग्री की खेप विमान के जरिए वुहान भेजेगा। चीन स्थित भारतीय दूतावास ने सोमवार को बताया कि विमान लौटते वक्‍त वहां फंसे भारतीयों और अन्‍य पड़ोसी देशों के नागरिकों को लेकर वापस आएगा। चीन में भारतीय राजदूत विक्रम मिस्री (Vikram Misri) ने बताया कि यदि विशेष विमान की क्षमता ने इजाजत दी तो वुहान से भारतीयों के अलावा दूसरे पड़ोसी मुल्‍कों के नागरिकों को वापस लाया जा सकता है। 

मिस्री ने ट्वीट कर कहा कि जो लोग भारत आना चाहते हैं वे बीजिंग में भारतीय दूतावास से संपर्क करें। दूतावास ने वापस आने को इच्‍छुक भारतीयों के लिए हॉटलाइन +8618610952903 और +8618612083629 नंबरों पर फोन करने को कहा है। दूतावास की ओर से कहा गया है कि आज शाम सात बजे तक helpdesk. beijing@ mea.gov.in पर भी ईमेल के जरिए संपर्क किया जा सकता है। इस बीच चीन में कोरोना वायरस से 105 लोगों और लोगों की मौत हो गई है। इस तरह चीन में यह वायरस से अब तक 1,770 लोगों की जान ले चुका है। सर्वाधिक मामले वायरस से बुरी तरह प्रभावित हुबेई प्रांत से आए हैं। 

भारतीय अधिकारियों ने बताया कि कोरोना वायरस से सबसे बुरी तरह प्रभावित वुहान और हुबेई प्रांत के इलाकों में अब भी 80 से 100 भारतीय फंसे हुए हैं। इनमें से कई भारतीयों ने भारत सरकार से खुद को चीन से निकालने की गुजारिश की है। गुहार लगाने वालों में वे 10 भारतीय भी शामिल हैं जो तेज बुखार के कारण पिछली दो उड़ानों में भारत नहीं लौट पाए थे। बताया जाता है कि अब उनकी सेहत में सुधार आया है जिससे उनके तीसरी उड़ान से लौटने की उम्मीदें हैं। मालूम हो कि श्रीलंका, नेपाल और बांग्लादेश ने अपने-अपने नागरिकों को निकाल चुके हैं जबकि 800 से 1000 पाकिस्तानी अब भी हुबेई में फंसे हुए हैं।

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस