बीजिंग, एएफपी। चीन ने कहा है कि अमेरिका के साथ ट्रेड वार खत्म करने के लिए बनी सहमति के उपायों को वह तत्काल लागू करेगा। चीन के वाणिज्य मंत्रालय का यह बयान कारोबारी विवाद सुलझाने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच सहमति बनने के बाद आया है। दोनों नेताओं ने विवाद सुलझाने के लिए वार्ताकारों को 90 दिनों का समय देने पर सहमति जताई है।

वाणिज्य मंत्रालय के प्रवक्ता जाओ फेंग ने नियमित प्रेस ब्रीफिंग में कहा कि दोनों पक्षों के बीच जिन बिंदुओं पर सहमति बनी है, उन पर तत्काल अमल किया जाएगा। इनमें कृषि उत्पाद, एनर्जी, ऑटो और अन्य कुछ आयटम शामिल हैं। दोनों पक्ष बौद्धिक संपदा संरक्षण, तकनीकी सहयोग, बाजार पहुंच और न्यायोचित व्यापार पर बातचीत करेंगे और सहमति बनाने के लिए कठोर परिश्रम करेंगे। हालांकि प्रवक्ता ने चीन द्वारा किए जाने वाले उपायों के बारे में और विवरण नहीं दिया।

इस बीच, व्हाइट हाउस ने कहा है कि व्यापार घाटे को कम करने के लिए चीन कृषि, एनर्जी, औद्योगिक व अन्य उत्पाद बड़ी मात्रा में खरीदने को सहमत हो गया है। वह अमेरिकी किसानों से उत्पाद तुरंत खरीदना शुरू करेगा। दोनों पक्ष टेक्नोलॉजी ट्रांसफर, बौद्धिक संपदा संरक्षण, साइबर अपराध, सेवा और कृषि क्षेत्र में ढांचागत बदलाव के लिए बातचीत करेंगे।

चीन ने कहा कि वह अमेरिका के साथ अपने पक्ष में कारोबारी सरप्लस घटाने के लिए अमेरिका से ज्यादा उत्पादों का आयात करेगा। हालांकि उसने इसकी कीमत का उल्लेख नहीं किया है। ट्रंप ने कहा था कि चीन कारों पर 40 फीसद शुल्क हटाएगा लेकिन जाओ ने अपने बयान में इसका उल्लेख नहीं किया। जाओ का यह बयान कनाडा में हुआवे की शीर्ष अधिकारी की गिरफ्तारी से कुछ घंटों पहले आया। इस गिरफ्तारी से अमेरिका व चीन के बीच रिश्ते फिर प्रभावित हो सकते हैं।

ट्रेड वार से सभी देशों को नुकसान : डब्ल्यूटीओ
विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के प्रमुख रॉबेर्टो एजेवेडो ने चेतावनी दी है कि ग्लोबल ट्रेड वार से सभी देशों को नुकसान होगा। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की आलोचना के शिकार हुए डब्ल्यूटीओ प्रमुख ने सुधारों की जरूरत पर बल दिया। उन्होंने उस बयान को खारिज कर दिया कि व्यापार के कारण नौकरियां जा रही हैं।

Posted By: Ravindra Pratap Sing