मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

बीजिंग, एएफपी। अमेरिका और चीन के बीच जारी ट्रेड वॉर के थमने के संकेत मिल रहे हैं। हालिया पहलकदमी चीन की ओर से की गई है। चीन ने घोषणा की है कि वह 16 तरह के अमेरिकी सामानों पर लगने वाले टैरिफ में अब छूट देगा। गौर करने वाली बात यह है कि चीन की ओर से यह घोषणा ऐसे समय में की गई है, जब उसकी अगले महीने से अमेरिका के साथ ट्रेड वॉर के मसले पर फ‍िर से वार्ता शुरू होनी है।  

चीन की ओर से जारी आधिकारिक बयान में कहा गया है कि अमेरिकी सामानों पर दी गई यह टैरिफ छूट 17 सितंबर से प्रभावी होगी। समाचार एजेंसी एएफपी के मुताबिक, स्‍टेट काउंसिल के सीमा शुल्क आयोग की ओर से टैरिफ पर छूट से संबंधित दो लिस्‍ट जारी की गई हैं। जिन उत्‍पादों पर छूट दिए जाने की बात कही गई है उनमें सी फूड प्रोडक्‍ट्स और कैंसर रोधी दवाएं शामिल हैं। 

उल्‍लेखनीय है कि महीनों से जारी ट्रेड वॉर के चलते दोनों देशों को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है। अमेरिका में मैन्‍युफैक्‍चरिंग में 2-3 फीसद की गिरावट दर्ज की गई है और यह 51.2 फीसद से गिरकर 49.1 फीसद पर आ गई है। वहीं चीन की आर्थिक वृद्धि दर भी पिछले 27 वर्षों में सबसे कम दर्ज की गई है। ट्रेड वार के बीच चीन की मुद्रा युआन भी लगातार नीचे आ रही है। आलम ये है कि बीते 11 सालों में युआन सबसे बुरे दौर से गुजर रहा है।

अमेरिका-चीन व्‍यापार युद्ध में नया मोड़ आने से न सिर्फ निवेशकों का भरोसा कम हुआ है वरन वैश्विक आर्थिक परिदृश्‍य भी धुंधला पड़ा है। निवेशक मुद्राओं की जगह सुरक्षित परिसंपत्तियों में निवेश को ज्‍यादा तरजीह दे रहे हैं। हालांकि, चीन की इस पहल से दोनों देशों के बीच ट्रेड वार थमने के संकेत मिल रहे हैं। लेकिन यदि ऐसा नहीं हुआ तो इससे अमेरिकी परिवारों को सालाना 10 लाख करोड़ रुपये से ज्‍यादा की चपत लगेगी। वहीं चीन के बाजार को भी तगड़ा झटका लगेगा। 

Posted By: Krishna Bihari Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप