बीजिंग, एजेंसी। अमेरिका से जारी 'ट्रेड वॉर' के बीच चीन ने कहा है कि अमेरिका से 'व्यापार वार्ता' विफल नहीं हुई है, इसका अगला दौर बीजिंग में होगा। चीन का यह बयान उस वक्‍त आया है जब अमेरिका ने 200 अरब डॉलर के चीनी उत्पादों पर टैरिफ की दर को 10 फीसद से बढ़ाकर 25 फीसद कर दिया है। अमेरिका के सीमा शुल्क और सीमा सुरक्षा ने चीन से आने वाले करीब 5,700 से अधिक उत्पादों पर टैरिफ दर बढ़ाई है।  

चीन के शीर्ष व्यापार वार्ताकार लियू हे ने वाशिंगटन में कहा कि अमेरिका के साथ बीजिंग में व्यापार वार्ता जारी रहेगी। हालांकि, उन्‍होंने यह भी चेतावनी दी कि महत्वपूर्ण सिद्धांतों पर कोई रियायत नहीं दी जाएगी। चीनी उत्पादों पर अमेरिका द्वारा टैरिफ दर बढ़ाए जाने के मामले में उन्‍होंने कहा कि दोनों देशों के बीच 'व्यापार वार्ता' में आया यह केवल एक सामान्‍य मोड़ है, बातचीत टूटी नहीं है। 

लियू हे ने यह नहीं बताया कि अमेरिका और चीन के बीच बीजिंग में यह 'व्यापार वार्ता' कब होगी। उन्‍होंने कहा कि दोनों ही देश इसे भविष्य में जारी रखने पर सहमत हैं। इस मसले पर दोनों देशों के बीच कई क्षेत्रों में आम सहमति है लेकिन कुछ मुद्दों को लेकर मतभेद भी बने हुए हैं। हर देश के पास अपना एक सिद्धांत होता है। हम देश के हित वाले सिद्धांतों में कोई रियायत नहीं देंगे। 

वहीं बीजिंग में चीन के वाणिज्‍य मंत्रालय ने कहा है कि अमेरिका की ओर से चीनी उत्‍पादों पर टैरिफ दर में बढ़ोतरी के जवाब में जवाबी कदम उठाने होंगे। दूसरी ओर अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप की ओर से कहा गया है कि वे 325 बिलियन डॉलर के चीनी आयात पर ड्यूटी को 25 फीसद तक बढ़ाने के लिए "कागजी कार्रवाई" शुरू करेंगे। बता दें कि दुनिया की दो बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच पिछले 10 महीने से ट्रेड वार जारी है जिसे खत्‍म करने की कोशिशें हो रही हैं। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Krishna Bihari Singh