बीजिंग, एएनआइ। संयुक्त राष्ट्र की टीम की शिनजियांग की बहुप्रतीक्षित यात्रा से पहले चीन (China) को डर सताने लगा है। हिटलर रूपी चीनी सरकार ने एक नया निर्देश जारी किया है जिसमें उइगरों को नजरबंदी शिविरों के नेटवर्क पर चर्चा न करने को कहा गया है। रेडियो फ्री एशिया (आरएफए) ने बताया कि निर्देश में उत्तर पश्चिमी प्रांत के लोगों को अंतरराष्ट्रीय फोन नंबरों से कॉल स्वीकार न करने को भी कहा है।

मानवाधिकारों के हनन की खबरों के बाद हो रहा दौरा

एक पुलिस अधिकारी ने आरएफए (RFA) को बताया कि पुलिस को संयुक्त राष्ट्र की मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाचेलेट (UN rights chief Michelle Bachelet) की यात्रा से पहले विशेष तैयारी करने के निर्देश मिले हैं। गौरतलब है कि उत्तर पश्चिमी क्षेत्र में मानवाधिकारों के हनन की खबरों के बीच संयुक्त राष्ट्र की अधिकार प्रमुख मिशेल बाचेलेट इस महीने शिनजियांग प्रांत की यात्रा कर रही हैं।

ह्यूमन राइट्स समूहों ने पहले ही चेताया

बता दें कि न्यूयॉर्क स्थित ह्यूमन राइट्स वाच (HRW) और 59 अन्य समूहों ने पहले ही उच्चायुक्त मिशेल बाचेलेट से चीनी सरकार को यात्रा में हेरफेर करने से रोकने के लिए कई कदम उठाने का आग्रह किया था। दर्जनों अधिकार समूहों का कहना है कि चीनी सरकार ने सच को छिपाने के लिए शिनजियांग में उइगर और अन्य तुर्क समूहों के सदस्यों के खिलाफ सामूहिक हिरासत, यातना और अन्य अपराधों की व्यापक और व्यवस्थित नीतियां बनाई हैं जो मानवता के खिलाफ अपराध हैं।

तैयारी जांचने टीम चीन पहुंची

दूसरी ओर चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने बताया कि यूएन मानवाधिकार टीम के आने से पहले उच्चायुक्त के कार्यालय की तैयारी जांचने वाली टीम चीन आ गई है और वर्तमान में कोरोना प्रोटोकाल के अनुसार काम कर रही है। उन्होंने कहा, "तैयारी करने वाली टीम ने काम शुरू कर दिया है और दोनों पक्ष यात्रा के लिए विशेष व्यवस्थाओं पर चर्चा कर रहे हैं।"

Edited By: Mahen Khanna