ओटावा, प्रेट्र । कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने वर्ष 1985 के कनिष्क विमान हादसे में जान गंवाने वाले 329 यात्रियों को श्रद्धांजलि दी है। उन्होंने इस घटना को कनाडा की सबसे बड़ी आतंकी वारदात बताया।

टोरंटो और मॉन्टि्रयल से लंदन जा रही एयर इंडिया की कनिष्क फ्लाइट 23 जून, 1985 को रडार से गायब हो गई थी। कनाडा में इस विमान में बम लगाया गया था, जो रास्ते में फट गया। विस्फोट में 280 कनाडाई नागरिकों के साथ 329 लोग मारे गए। शनिवार को इस हादसे की याद में आयोजित एक कार्यक्रम में ट्रूडो ने कहा, उस घटना से देश को गहरा धक्का लगा था।

पीडि़तों के परिजन और करीबी आज भी अपनों को खोने के दर्द से उबर नहीं पाए हैं। आतंकियों को लगता है कि ऐसी कायरता भरी हरकतों से वे हमारी सुरक्षा को चुनौती देंगे। लेकिन वे पूरी तरह गलत हैं।' कनाडा के रक्षा मंत्री हरजीत सज्जन ने कहा, 'इस मामले में केवल एक व्यक्ति ही पकड़ा गया। अब भी कई लोग कानून के दायरे से बाहर हैं। जब तक सभी को सजा नहीं होती इस मामले की जांच बंद नहीं होगी।'

By Jagran News Network