Move to Jagran APP

अमेरिका ने उत्तर कोरिया के तीन अधिकारियों पर लगाया प्रतिबंध, सभी आईसीबीएम मिसाइल परीक्षण में थे शामिल

उत्तर कोरिया के नवीनतम और सबसे बड़े अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल (Intercontinental Ballistic Missile) परीक्षण के बाद अमेरिका ने इस हथियार कार्यक्रमों से जुड़े तीन वरिष्ठ अधिकारियों पर प्रतिबंध लगा दिया है। इस मिसाइल को प्योंगयांग ने पिछले माह परीक्षण किया था।

By AgencyEdited By: Sonu GuptaPublished: Fri, 02 Dec 2022 06:09 AM (IST)Updated: Fri, 02 Dec 2022 06:09 AM (IST)
अमेरिका ने उत्तर कोरिया के तीन अधिकारियों पर लगाया प्रतिबंध। फोटो- रायटर्स।

वाशिंगटन, रायटर्स। उत्तर कोरिया के नवीनतम और सबसे बड़े अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल (Intercontinental Ballistic Missile) परीक्षण के बाद अमेरिका ने इस हथियार कार्यक्रमों से जुड़े तीन वरिष्ठ अधिकारियों पर प्रतिबंध लगा दिया है। इस मिसाइल को प्योंगयांग ने पिछले माह परीक्षण किया था। अमेरिकी ट्रेजरी विभाग ने प्रतिबंध लगाए गए व्यक्तियों की पहचान जान इल हो, यू जिन और किम सु गिल के रूप में नामित किया है। इस सभी अधिकारियों को अप्रैल में यूरोपीय संध के द्वारा भी प्रतिबंधों के लिए नामित किया गया था।

loksabha election banner

हथियारों के विकास में निभाई है प्रमुख भूमिका

मालूम हो कि तीनों अधिकारियों पर नया प्रतिबंध उत्तर कोरिया द्वारा 18 नवंबर को आईसीबीएम परीक्षण के बाद लगाए गए हैं। यह मिसाइल इस साल के 60 से अधिक मिसालइलों के रिकार्ड-ब्रेकिंग स्पोट के रूप में लॉन्च किया गया था। अमेरिकी ट्रेजरी विभाग न अपने बयान में कहा कि जान इल हो उत्तर कोरिया के युद्ध सामग्री उद्योग विभाग (Munitions Industry Department) के उप निदेशक, जबकि यू जिन इसके निदेशक के रूप में काम करते हैं। और इन दोनों ने उत्तर कोरिया में बड़े पैमाने पर विनाश वाले हथियारों के विकास में प्रमुख भूमिका निभाई है।

मिसाइल कार्यक्रमों में भूमिका निभाने वालों पर हो रही है कार्रवाई

बयान में कहा गया है कि एक अन्य किम सु गिल ने साल 2018 से लेकर 2021 तक कोरियन पीपुल्स आर्मी जनरल पालिटिकल ब्यूरो के निदेशक के रूप में अपनी सेवाएं दी है और WMD कार्यक्रम से संबंधित निर्णयों के कार्यान्वयन की देखरेख भी की है। ट्रेजरी अंडर सेक्रेटरी फार टेररिज्म एंड फाइनेंशियल इंटेलिजेंस ब्रायन नेल्सन ने अपने बयान में कहा, 'ट्रेजरी कोरिया और जापान के साथ घनिष्ठ त्रिपक्षीय समन्वय में उन अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई कर रहा है जिनकी डीपीआरके के अवैध डब्लूएमडी और बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रमों में सबसे बड़ी भूमिका रही है।'

यह भी पढ़ें- चीन में दशकों बाद सरकार के खिलाफ व्यापक प्रदर्शन, माओ के बाद सबसे मजबूत नेता जिनपिंग को हटाने तक के नारे लगे

यह भी पढ़ें- Fact Check : सावरकर पर बनी डॉक्युमेंट्री के वीडियो को अंडमान जेल का बताकर किया जा रहा शेयर


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.