वाशिंगटन, एजेंसियां। अमेरिका में अश्वेत व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस हिरासत में मौत के खिलाफ के विरोध प्रदर्शन दुनियाभर के कई अन्य देशों में देखने को मिला है। समाचार एजेंसी रायटर्स के अनुसार रविवार को लंदन और बर्लिन में हुए विरोध प्रदर्शन के बाद सोमवार को न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया और नीदरलैंड में प्रदर्शन देखने को मिला। वहीं अमेरिका में जारी  हिंसक विरोध प्रदर्शनों के जवाब में रविवार को वाशिंगटन समेत अमेरिका के 40 शहरों में कर्फ्यू लगा दिया गया। समाचार एजेंसी एएनआइ के अनुसार 5,000 नेशनल गार्ड सदस्य सक्रिय हो गए हैं और जरूरत पड़ने पर अन्य 2000 अन्य तैनात हो सकते हैं।

अमेरिका में अश्वेत व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस हिरासत में मौत के खिलाफ जारी हिंसक विरोध प्रदर्शनों के बीच प्रदर्शनकारियों ने लूटपाट शुरू कर दिए हैं। समाचार एजेंसी एपी के अनुसार प्रदर्शनकारी कैपिटल बैंक की एक शाखा में घुस गए। यही नहीं मर्विस ड्रेस स्टोर के बाहर फुटपाथ पर खाली गहने बक्से बिखरे हुए देखने को मिले।

न्यूयॉर्क के गवर्नर एंड्रयू क्योमो ने प्रदर्शनकारियों से अश्वेत व्यक्ति की हत्या के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए हिंसक विरोध प्रदर्शन से बचने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि इससे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को हत्या के बजाय लूट के बारे में ट्वीट करने का मौका मिल रहा। रविवार को एक के बाद एक ट्वीट करके हिंसा की निंदा करते हुए ट्रंप ने प्रदर्शनकारियों को अराजकतावादी कहा साथ ही दुकानों को लूटने और व्यवसायों को नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया।

US Protest News Updates:

व्‍हाइट हाउस के बाहर भी हिंसक प्रदर्शन

व्‍हाइट हाउस के बाहर भी हिंसक प्रदर्शन हुआ, जिसके बाद पुलिस को आंसू गैस के गोले दागने पड़े। न्‍यूज एजेंसी एएफपी के मुताबिक, अमेरिका में प्रदर्शन न्यूयॉर्क से लेकर टुल्सा और लॉस एंजिलिस तक हो रहा है। जॉर्ज फ्लॉयड की मौत को लेकर व्हाइट हाउस के बाहर प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच बढ़ते तनाव के बीच वाशिंगटन में कर्फ्यू लगा दिया गया है। 

200 साल पुराने चर्च में आग

वाशिंगटन में 200 साल पुराने सेंट जॉन्स एपिस्कोपल चर्च के तहखाने में आग लग गई है। जॉर्ज फ्लॉयड की मौत पर विरोध प्रदर्शन वाशिंगटन और अन्य अमेरिकी शहरों में हिंस रूप ले लिया है और इस दौरान कई जगहों पर आग लगने की घटनाएं सामने आई हैं।

बिडेन ने विरोध प्रदर्शन स्थल का दौरा किया

समाचार एजेंसी एपी के अनुसार राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने रविवार को ट्विटर पर देश भर के प्रदर्शनकारियों के खिलाफ 'कानून और व्यवस्था' और पुलिस द्वारा सख्त कार्रवाई करने का संदेश देते नजर आए,तो वहीं जो बिडेन ने चुपचाप अपने गृहनगर विलमिंगटन, डेलावेयर के विरोध प्रदर्शन स्थल का दौरा किया और कुछ प्रदर्शनकारियों से बात की। वह अमेरिका के पूर्व उपराष्ट्रपति और डेमोक्रेटिक पार्टी के संभावित राष्ट्रपति उम्मीदवार हैं। इस साल नवंबर में अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव होना है।

ह्यूस्टन शहर में 100 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया

पुलिस हिरासत में अश्वेत व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के दूसरे दिन भी विरोध प्रदर्शन के दौरान ह्यूस्टन शहर में 100 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के हवाले से आइएएनएस ने जानकारी दी की ह्यूस्टन  पुलिस ने रविवार सुबह ट्वीट किया कि विभिन्न अपराधों को लेकर 100 से अधिक व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया। 

भूमिगत बंकर में ले जाए गए ट्रंप

वाशिंगटन में शुक्रवार रात व्हाइट हाउस के बाहर प्रदर्शनकारियों के एकत्र होने के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को व्हाइट हाउस के भूमिगत बंकर में ले जाया गया।  द न्यू यॉर्क टाइम्स के हवाले से समाचार एजेंसी एएनआइ ने इसकी जानकारी दी है। ट्रंप को ऊपर आमे से पहले एक घंटे से भी कम समय के लिए वहां मौजूद थे। शुक्रवार को सैकड़ों लोगों ने व्हाइट हाउस की ओर रुख किया। सिक्रेट सर्विस और संयुक्त राज्य अमेरिका पार्क पुलिस के अधिकारियों ने उन्हें आगे बढ़ने से रोका।

क्या है मामला

गौरतलब है कि यह प्रदर्शन पिछले दिनों जॉर्ज फ्लोयड नाम के एक अश्वेत व्यक्ति की पुलिस हिरासत में मौत को लेकर हो रहा है। फ्लोयड की गर्दन पर श्वेत पुलिस अधिकारी द्वारा घुटना रखे जाने का वीडियो सामने आया था। इस घट वीडियो में दिखता कि पुलिसअधिकारी अपने घुटने से लगभग आठ मिनट व्यक्ति की गर्दन दबाए रखता है। इस दौरान अश्वेत व्यक्ति सांस रुकने की बात कहता नजर आता है। इसे लेकर लोगों में काफी रोष है।

Posted By: Tanisk

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस