वाशिंगटन, एएनआइ। वाशिंगटन, एएनआइ। अमेरिका के वाशिंगटन डीसी में 200 वर्षीय सेंट जॉन्स एपिस्कोपल चर्च के तहखाने में आग लग गई है। कोलंबिया फायर एंड इमरजेंसी मेडिकल सर्विसेज ने बताया कि आग बुझाने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। कोरोना वायरस संक्रमण, अश्‍वेत व्‍यक्ति की मौत के बाद कई राज्‍यों में प्रदर्शन और अब चर्च में आग, अमेरिका की मुश्किलें खत्‍म होने का नाम ही नहीं ले रही हैं।

बताया जा रहा है कि जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद पुलिस के खिलाफ जारी प्रदर्शन अब अमेरिका के 40 शहरों में काफी उग्र हो गया, जिसके बाद कर्फ्यू लगाया गया है। रविवार रात को प्रदर्शनकारियों ने व्हाइट हाउस के आसपास कई जगहों में आगजनी की। इस बीच व्हाइट हाउस के नजदीक स्थित ऐतिहासिक सेंट जॉन एपिस्कोपल चर्च को भी प्रदर्शनकारियों ने कथित तौर पर आग के हवाले कर दिया।

इस ऐतिहासिक चर्च के आसपास की वीडियो में दिखाई दे रहा है कि दीवारों पर प्रदर्शन से संबंधित ग्रैफिटी बनायी गयी हैं और चर्च की खिड़की तोड़कर उसमें आग लगा दी गयी है। हालांकि, आधिकारिक पुष्टि अभी तक इसकी नहीं हुई है। एक अन्य वीडियो में नेशनल गार्ड घर में मौजूद लोगों पर फायरिंग कर रहे हैं और घरों के भीतर आंसू गैस के गोले भी फेंक रहे हैं।

गौरतलब है कि सेंट जॉन्स एपिस्कोपल चर्च दुनिया भर में काफी मशहूर है और वाशिंगटन डीसी आने वाले लोगों के लिये आकर्षण का केंद्र रहता है। दरअसल, शुक्रवार को व्हाइट हाउस के पास प्रदर्शनकारियों की भारी भीड़ जुटनी शुरू हो गई थी। एक प्रदर्शनकारी ने कूड़ेदान में आग लगा दी और पुलिस से धक्कामुक्की भी की। इसके बाद मामला इतना बिगड़ गया कि सुरक्षा में तैनात सीक्रेट सर्विस एजेंट्स राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को वाइट हाउस में बने सुरक्षात्मक बंकर में ले गए। न्यूयॉर्क टाइम्स की खबर के मुताबिक, प्रदर्शनकारियों के पीछे हटाने में सीक्रेट सर्विस और यूनाइटेड स्टेट्स पार्क पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ रही है।

Posted By: Tilak Raj

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस