वाशिंगटन [न्यूयार्क टाइम्स]। अमेरिका में खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) लोगों को कोरोना बूस्टर डोज के रूप में दूसरी वैक्सीन लेने की अनुमति देने पर विचार कर रहा है। इससे जानसन एंड जानसन की वैक्सीन की मांग कम होगी और डाक्टरों एवं अन्य टीका लगाने वालों के सामने भी नया विकल्प होगा। सरकार ने विशेषज्ञों की समिति से वैक्सीन की 'मिक्स एंड मैच' पर एक अध्ययन कराया था।

समिति ने अध्ययन में पाया कि जिन लोगों ने जानसन एंड जानसन की सिंगल डोज वाली वैक्सीन ली थी और उन्हें बूस्टर डोज के रूप में माडर्ना की वैक्सीन लगाई गई तो 15 दिन के भीतर एंटीबाडी का स्तर 76 गुना बढ़ गया। जबकि, बूस्टर डोज के रूप में जानसन एंड जानसन की डोज लगाने पर एंटीबाडी में मात्र चार गुना की वृद्धि देखी गई। एफडीए की बैठक में समिति की रिपोर्ट पर विचार किया गया।

माना जा रहा है कि एफडीए बुधवार तक बूस्टर डोज के रूप में माडर्ना और जानसन एंड जानसन की वैक्सीन लगाने की अनुमति दे सकता है। हालांकि, एफडीए की योजना के जानकारों के मुताबिक सरकार अलग-अलग डोज लगाने की सिफारिश नहीं करेगी। वह यह कह सकती है कि जब संभव हो तो बूस्टर डोज के रूप में एक ही तरह का टीका लगवाना बेहतर होता है। परंतु, वैक्सीन देने वाले अपने विवेक से मिश्रित डोज दे सकते हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की तरफ से बहुत समय से इसकी मांग की जा रही थी।

महामारी की शुरुआत से लेकर अब तक अमेरिका का हालत सबसे खराब रहा है। सबसे अधिक मौतें भी यहीं हुई हैं और सबसे अधिक संक्रमित भी यही मिल रहे हैं। यहां अब तक कुल कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 45,050,219 हो चुका है वहीं मरने वालों की संख्या 726,196 है। अमेरिका की जान्स हापकिन्स यूनिवर्सिटी (Johns Hopkins University) द्वारा दिए गए अपडेट के अनुसार मंगलवार सुबह 8 बजे तक दुनिया भर में कुल संक्रमण के मामले 241,098,699 हैं और इस घातक संक्रमण के कारण मरने वालों की संख्या 4,904,877 हो चुकी है। हालांकि दुनिया भर में कोरोना वैक्सीनेशन जारी है और अब तक कुल 6,617,433,262 वैक्सीन लगाई जा चुकी है।

Edited By: Monika Minal