वाशिंगटन, एएनआइ। अमेरिका की संघीय जांच एजेंसी (एफबीआइ) ने बीते शुक्रवार को फ्लोरिडा के पेंसाकोला स्थित नौसेना अड्डे पर गोलीबारी कर तीन लोगों की जान लेने वाले हमलावर की पहचान कर ली है। इस वारदात को अंजाम देने वाला 21 वर्षीय मुहम्मद अल शमरानी सऊदी अरब की वायुसेना में सेकेंड लेफ्टिनेंट था।

एफबीआइ के अनुसार, 'घटनास्थल पर ही मार गिराया गया शमरानी पेंसाकोला स्थित नौसेना की एविएशन स्कूल कमान में प्रशिक्षण ले रहा था।' सऊदी अरब के सैनिक 1970 से ही पेंसाकोला में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता क्रिस गार्वर ने बताया कि पेंटागन द्वारा प्रायोजित प्रशिक्षण कार्यक्रमों के तहत फिलहाल 852 सऊदी सैनिक अमेरिका में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। यह 153 देशों के प्रशिक्षणरत 5181 सैनिकों का 16 फीसद है।

विदेशी सैनिकों के प्रशिक्षण कार्यक्रम की होगी समीक्षा: ट्रंप

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शनिवार को कहा, अमेरिका कई दशकों से दूसरे देशों के सैनिकों को प्रशिक्षण प्रदान कर रहा है, लेकिन अब ऐसा लगता है कि पूरी प्रक्रिया की समीक्षा की जानी चाहिए। हम इसे तुरंत शुरू करेंगे।

घटना की वजह का जल्द पता लगाएंगे

ट्रंप ने कहा, हम यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि इस घटना के पीछे एक व्यक्ति है या और भी लोग शामिल हैं। यह बहुत चौंकाने वाली घटना है और बहुत जल्द हम इस घटना की वजह का पता लगाएंगे। ट्रंप ने बताया कि इस घटना के बाद उन्होंने सऊदी किंग और क्राउन प्रिंस से बात की। दोनों ही नेता इससे बहुत दुखी हैं और प्रभावित परिवारों की मदद करना चाहते हैं।

सऊदी किंग ने किया था डोनाल्ड ट्रंप को फोन

सऊदी अरब के किंग द्वारा अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को फोन किए जाने की बात सामने आई थी। एक बंदूकधारी द्वारा अमेरिकी सैन्य अड्डे पर हमला कर तीन लोगों की जान लेने और बंदूकधारी के सऊदी नागरिक होने की पुष्टि के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को शुक्रवार फोन किया और घटना पर संवेदना जताई थी। ट्रंप का एक ट्वीट भी इस घटना की पुष्टि करता है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने ट्वीट किया था कि सऊदी अरब के किंग सलमान ने अपनी संवेदना व्यक्त करने और सहानुभूति प्रकट करने के लिए फोन किया।

Posted By: Sanjeev Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस