वाशिंगटन [न्यूयॉर्क टाइम्स]। अमेरिका के खुफिया अधिकारियों ने सांसदों को आगाह किया है कि राष्ट्रपति चुनाव में रूस फिर दखल दे रहा है। डोनाल्ड ट्रंप को दोबारा राष्ट्रपति बनवाने के प्रयास के तहत ऐसा किया जा रहा है। यह जानकारी उजागर होने पर ट्रंप ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि विपक्षी डेमोक्रेट्स मेरे खिलाफ इसका इस्तेमाल करेंगे। अमेरिका में इस साल नवंबर में राष्ट्रपति चुनाव होना है। 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में भी रूसी हस्तक्षेप के आरोप लगे थे। इसकी बाद में जांच भी हुई थी, लेकिन ट्रंप की प्रचार टीम और रूस के बीच साठगांठ का कोई सुबूत नहीं मिला था।

13 फरवरी को दी थी जानकारी

मामले से जुड़े अधिकारियों के अनुसार, गत 13 फरवरी को खुफिया अधिकारियों ने सांसदों को राष्ट्रपति चुनाव प्रचार में रूस के दखल की जानकारी दी थी। इसके अगले दिन राष्ट्रपति ट्रंप ने राष्ट्रीय खुफिया एजेंसी के कार्यवाहक निदेशक जोसेफ मेगुइर को फटकार लगाई थी। उन्हें इस बात को लेकर नाराजगी थी कि खुफिया अधिकारियों की ब्रीफिंग में डेमोक्रेट सांसद और संसदीय खुफिया मामलों की समिति के अध्यक्ष एडम शिफ भी मौजूद थे। एडम की ही अगुआई में ट्रंप के खिलाफ महाभियोग कार्यवाही को अंजाम दिया गया था।

रिपब्लिकन पार्टी ने आरोपों को किया खारिज

ब्रीफिंग के दौरान ट्रंप की रिपब्लिकन पार्टी के सांसदों ने खुफिया अधिकारियों के रूसी दखल के निष्कर्ष को चुनौती दी और कहा कि उन्होंने (ट्रंप) रूस को लेकर सख्त रुख अपना रखा है और सुरक्षा को मजबूत किया है। रूसी दखल की खबर पर हालांकि राष्ट्रपति भवन ह्वाइट हाउस और राष्ट्रीय सुरक्षा निदेशक के कार्यालय की ओर से कोई बयान नहीं आया है।

प्राइमरी चुनाव में भी दखल का प्रयास

खुफिया अधिकारियों ने सांसदों को बताया कि रूस का दखल जारी है। रूस की मंशा से जाहिर होता है कि वह डेमोक्रेटिक पार्टी की प्राइमरी के साथ ही आम चुनाव में भी दखल का प्रयास कर रहा है। इस समय अमेरिका की दोनों पार्टियों रिपब्लिकन और डेमोक्रेटिक में राष्ट्रपति उम्मीदवार चुनने के लिए प्राइमरी चुनाव हो रहे हैं।

खुफिया निदेशक की छुट्टी

राष्ट्रपति ट्रंप ने राष्ट्रीय खुफिया एजेंसी के कार्यवाहक निदेशक जोसेफ मेगुइर की छुट्टी कर दी है। उनकी जगह जर्मनी में अमेरिका के मौजूदा दूत रिचर्ड ग्रेनेल को नियुक्त किया गया है। रिचर्ड ट्रंप के प्रबल समर्थक माने जाते हैं। बताया जा रहा है कि ट्रंप संसद की खुफिया मामलों की समिति के समक्ष रूसी दखल पर ब्रीफिंग दिए जाने से जोसेफ से नाराज थे।

रूस ने दखल के आरोपों को बताया झूठ

मॉस्को, रायटर : रूस के राष्ट्रपति भवन क्रेमलिन ने अमेरिकी चुनाव में दखल देने और ट्रंप को दोबारा ह्वाइट हाउस पहुंचाने के आरोपों को झूठ करार दिया है। अमेरिकी खुफिया अधिकारियों के आरोपों पर क्रेमलिन के प्रवक्ता दमित्री पेस्कोव ने कहा, 'ये यकीन नहीं करने वाली घोषणाएं हैं। इनका सच से कोई वास्ता नहीं है।'

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

जागरण अब टेलीग्राम पर उपलब्ध

Jagran.com को अब टेलीग्राम पर फॉलो करें और देश-दुनिया की घटनाएं real time में जानें।