संयुक्त राष्ट्र, एपी: उत्तर कोरिया पर नए प्रतिबंध लगाने में रूस और चीन ने अड़ंगा लगा दिया है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अमेरिका ने उत्तर कोरिया के हालिया मिसाइल परीक्षणों को लेकर इस देश के पांच अधिकारियों पर प्रतिबंध लगाने की मांग की थी। उत्तर कोरिया ने पिछले दो सप्ताह के दौरान चार बार बैलिस्टिक मिसाइलों का परीक्षण किया था। इस मुद्दे को लेकर सुरक्षा परिषद की गुरुवार को आपात बैठक हुई।

'उत्तर कोरिया ने किया सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों का उल्लंघन'

अमेरिका ने 15 सदस्यीय परिषद से कहा कि इस तरह के परीक्षण सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों का उल्लंघन करते हैं। साथ ही उत्तर कोरिया से यह कहा जाए कि वह परमाणु निरस्त्रीकरण की दिशा में वार्ता में शामिल हो। राजनयिकों ने बताया कि उत्तर कोरिया समर्थक चीन ने अमेरिका के इस बयान का विरोध किया। अमेरिका, ब्राजील, फ्रांस, आयरलैंड, जापान, संयुक्त अरब अमीरात और ब्रिटेन ने उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षणों की निंदा की।

हालिया मिसाइल परीक्षणों के लेकर विवाद

पिछले दिनों उत्तर कोरिया ने पुष्टि की थी कि उसने दो बैलिस्टिक मिसाइलों का सफल परीक्षण किया है। उत्तर कोरिया द्वारा एक महीने में यह चौथा मिसाइल परीक्षण था। इससे पहले भी देश ने दो मौकों पर बैलिस्टिक मिसाइलों का सफल परीक्षण करने का दावा किया था।

UNSC में अमेरिका ने किया था एकजुट होने का आह्वान

बैलिस्टिक मिसाइलों के परीक्षण के मुद्दे पर सुरक्षा परिषद की चर्चा से पहले, अमेरिकी राजदूत लिंडा-थामस ग्रीनफील्ड ने गुरुवार को कहा था कि अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, आयरलैंड, जापान और कई अन्य देश सुरक्षा परिषद से उत्तर कोरिया के हालिया बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षण की निंदा करने का आग्रह करेंगे। वहीं, अमेरिका समेत ब्राजील, फ्रांस, आयरलैंड, जापान, यूएई और ब्रिटेन ने UNSC के प्रस्तावों के उल्लंघन में उत्तर कोरिया की निंदा करने के लिए परिषद के साथी सदस्यों को एकजुट होने का भी आग्रह किया था।

Edited By: Amit Singh